आक्रोश : रॉकेट इंडिया के मज़दूरों ने दी हड़ताल की नोटिस

एडीएम के समक्ष 10 दिन में समझौते के वायदे से प्रबन्धन मुकरा

पंतनगर (उत्तराखंड)। रॉकेट इंडिया में लंबे समय से लंबित यूनियन के माँगपत्र पर अपर जिलाधिकारी की कमेटी के समक्ष वार्ता में 10 दिन में समझौता सम्पन्न करने के वायदे से मुकर जाने के बाद यूनियन ने कंपनी को टूल डाउन और हड़ताल सहित वैधानिक आंदोलन की नोटिस दी है।

माँगपत्र पर 10 माह से जारी है संघर्ष

रॉकेट इंडिया प्राइवेट लिमिटेड सिडकुल, पंतनगर उधमसिंहनगर में नए वेतन समझौते के लिए यूनियन ने प्रबन्धन को 5 मार्च, 2020 को अपना नया माँगपत्र दिया था। उसी दौरान कोविड-19 महामारी की आड़ में प्रबन्धन ने उसे लंबित कर दिया। हालांकि कंपनी इस दौरान एक दिन भी बंद नहीं रही। पूरे कोरोना/लॉकडाउन समय मे प्लांट लगातार चलता रहा और उत्पादन जारी रहा।

रॉकेट रिद्धि सिद्धि कर्मचारी संघ ने दिए गए नोटिस में कहा है कि यह दुख और क्षोभ का विषय है कि यूनियन के माँग पत्र पर प्रबंधन की हठधर्मिता बनी हुई है और वह पिछले 10 माह से मामले को उलझाए रखा है। जबकि यूनियन लगातार लचीलेपन के साथ प्रयासरत है।

नोटिस में लिखा है कि यूनियन ने कोरोना महामारी के विकट दौर में भी कंपनी का साथ दिया और उत्पादन जारी रखा। 15 अगस्त 2020 के सार्वजनिक अवकाश को स्थगित किया गया। सहायक श्रमायुक्त महोदय के समझौता कराने के सुझाव पर दिनांक 13 व 14 नवम्बर के दीपावली अवकाश को अंतिम समय मे यूनियन ने स्थगित किया।

प्रशासनिक अधिकारियों के सुझाव रद्दी की टोकरी में

नोटिस में कहा गया है कि जिलाधिकारी महोदया द्वारा अपर जिलाधिकारी महोदय की अध्यक्षता में बनाई गई कमेटी की दिनांक 21/12/2020 की वार्ता में समझौते हेतु प्रबंधन ने अधिकतम 10 दिन का समय माँगा था, जो प्रबन्धन के मनमानेपन से बगैर निष्कर्ष बीत गया। इस तरह प्रबन्धन प्रशासनिक व श्रम अधिकारियों की बातों को भी रद्दी की टोकरी में फेंक दिया और हठधर्मिता पर कायम है।

4 जनवरी को प्रबन्धन को दिए गए नोटिस के माध्यम से यूनियन ने कहा कि यह एक विकेट स्थिति है और प्रबन्धन जानबूझकर शांतिपूर्ण औद्योगिक माहौल को बिगाड़ने पर आमादा है। ऐसे में यूनियन को वैधानिक आंदोलन शुरू करना मजबूरी बन रही है।

चरणबद्ध आंदोलन, टूल डाउन से हड़ताल तक कि घोषणा

यूनियन ने लिखा है कि यदि प्रबन्धन की हठधर्मिता कायम रही और वह सर्वमान्य समझौता नहीं करता है, तो वैधानिक आंदोलन के क्रम में प्लांट में दिनांक 10/01/2021 से समस्त श्रमिक नियमानुसार कार्य (वर्क टू रूल) करेंगे। फिर भी हठधर्मिता बनी रही तो दिनांक 20/01/2021 से सभी शिफ्टों में 02 घण्टे का टूल डाउन होगा और दिनांक 27/01/2021 से हर पाली में 04 घण्टे का टूल डाउन होगा।

अगर इसके बाद भी प्रबन्धन द्वारा कोई समाधान नही निकाला जाता है तो दिनांक 05/02/2021 से कंपनी के समस्त श्रमिक/यूनियन सदस्य पूर्णरूप से वैधानिक हड़ताल पर जाने को मजबूर होंगे। ऐसे में पैदा हर स्थिति के लिए पूरी जिम्मेदारी कंपनी प्रबन्धन की होगी।

यूनियन ने स्पष्ट किया है कि प्रबन्धन ने यूनियन के लगातार जारी सहयोग, प्रशासनिक कमेटी व एएलसी महोदय का मान भी नहीं रखा, इसलिए यह आंदोलन अब किसी भी आश्वासन से स्थगित नहीं होगा, बल्कि सर्वमान्य समझौता ही इसे रोक सकता है।

यूनियन ने कहा है कि वैधानिक आंदोलन पर जाने की विवशता हमारी होगी और समझौता करके इसे रोकना प्रबन्धन के हाथ में है।

%d bloggers like this: