कार्यबहाली के लिए हरिद्वार में प्रदर्शन

गैरकानूनी बर्खास्तगी झेलते सत्यम ऑटो व हीरो के मजदूरों ने निकाली रैली

हरिद्वार (उत्तराखंड), 11 अक्टूबर। सत्यम ऑटो कामगार संगठन के नेतृत्व में मजदूरों ने पूरे परिवार सहित इंदिरा अम्मा भोजनालय, रोशनाबाद, हरिद्वार के मैदान में धरना दिया और गैरकानूनी रूप से सत्यम ऑटो कम्पोनेंट, सिडकुल के निकाले गए 300 श्रमिकों व हीरो मोटोकॉर्प के बर्खास्त श्रमिक अरुण सैनी की कार्यबहाली की माँग बुलंद की।

इसे भी पढ़ें- अन्याय के खिलाफ संघर्षरत है सत्यम ऑटो के मज़दूर

मजदूरों ने जिला अधिकारी हरिद्वार कार्यालय तक रैली निकाली और उप श्रमायुक्त कार्यालय भी गए । दोनों जगह पुलिस मौजूद रही और मज़दूरों से उनकी झड़प हुई । इसके बावजूद मज़दूरों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर कार्यबहाली करवाने की माँग की।

ज्ञापन में कहा गया है कि सत्यम ऑटो के मज़दूर वर्ष 2008 से कार्य कर रहे हैं। कम्पनी में 2012 में हुए 3 वर्ष के वेतन समझौते की अवधि समाप्त होने के बाद 29 जुलाई 2015 को अपना अट्ठारह सूत्री मांग पत्र कारखाना प्रबंधक को दिया। कई दौर की वार्ता में हल ना निकलने पर विवाद औद्योगिक न्यायाधिकरण हल्द्वानी को संदर्भित कर दिया गया। इस बीच प्रबंधन ने 2 मार्च 2017 को गोपनीय तरीके से कुछ मजदूरों को अपने पक्ष में करके उनसे एक समझौता कर लिया। जिसका मजदूरों ने विरोध किया और अपनी लिखित आपत्ति श्रम अधिकारियों को दी। जिससे नाराज प्रबंधन ने 17 अप्रैल 2017 को विरोध करने वाले 300 मजदूरों की जबरन गेट बंदी कर दी और उनकी कंपनी में प्रवेश पर रोक लगा दी। तब से मजदूरों का संघर्ष लगातार जारी है।

इसे भी पढ़ें- उत्तराखंड : बंद होती कंपनियां, संघर्षरत मजदूर

श्रमिक नेता महिपाल सिंह ने कहा कि श्रम विभाग और सरकार को बार-बार अवगत कराया जा रहा है लेकिन मजदूरों की कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने श्रम विभाग की प्रबंधन से मिलीभगत का आरोप लगाया।

राजेंद्र सिंह ने कहा कि अगर प्रशासन ने 15 दिन तक श्रमिकों की बहाली के लिए वार्ता नहीं करवाई, तो समस्त श्रमिक परिवार सहित कंपनी के मुख्य द्वार पर धरना देंगे और जेल भरो आंदोलन के लिए बाध्य होंगे।

इसे भी पढ़ें- श्रम संहिताएं : मज़दूरों को बनायेंगी बंधुआ

धरने में इंटक नेता हीरा सिंह बिष्ट, राजवीर चौहान, सुभाष राठी, इंकलाबी मजदूर केंद्र से राजू, पंकज, हीरो मोटोकॉर्प से अरुण सैनी, बीएचएल यूनियन और पीआईडीसी, एच यू एल, आईटीसी आदि के मजदूरों व महिलाओं ने भाग लिया। मेयर अनिता शर्मा ने भी सहयोग दिया।

इसे भी जानें- आओ देश के मज़दूर इतिहास को जानें!

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: