पुलित्जर विजेता फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी अफगानिस्तान में मारे गए

दानिश अपनी मार्मिक तस्वीरों के लिए जाने जाते थे, जिनमें वो उन अत्याचारों और कठिनाइयों को कैद करते थे जो समाज के हाशिये पर रहने वालों को झेलनी पड़ती हैं।

भारत में समाचार एजेंसी रॉयटर्स की मल्टीमीडिया टीम का नेतृत्व करने वाले पुलित्जर पुरस्कार विजेता भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की गुरुवार की रात अफगानिस्तान के कंधार प्रांत के स्पिन बोलदाक इलाके में रिपोर्टिंग के दौरान मौत हो गई। दानिश अफगानिस्तान में तालिबान के खिलाफ अफगान विशेष बलों के अभियानों की रिपोर्ट करने के लिए उनके साथ यात्रा कर रहे थे।

तीन दिन पहले, फोटो पत्रकार ने ट्वीट्स की एक श्रृंखला में कंधार क्षेत्र से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद सरकारी सुरक्षा बलों और तालिबान के बीच हिंसक संघर्ष को कवर करने के अपने ख़तरनाक अनुभव का वर्णन किया था।

दानिश ने ट्वीट में लिखा है कि

अफगानी विशेष सुरक्षा बल के जवान देश भर में विभिन्न मोर्चे पर हैं। मैंने इन युवकों के साथ कुछ मिशनों पर रहूंगा। यहाँ आज कंधार में एक युद्ध मिशन पर पूरी रात बिताने के बाद बचाव अभियान पर थे। उस दौरान ये हुआ https://t.co/HMTbOOtDqN

घर पहुंचने के लिए मीलों पैदल चलने वाले हजारों प्रवासी कामगारों पर लॉकडाउन के विनाशकारी प्रभाव की उनकी तस्वीरें और भारत में कोरोनावायरस की घातक दूसरी लहर को कवर करने वाली उनकी तस्वीरों का व्यापक रूप से मीडिया प्रकाशनों में उपयोग किया गया था।

पहले लॉकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की तकलीफ़ उजागर करती दानिश की खींची गई तस्वीर

2018 में, सिद्दीकी ने अपनी टीम के अन्य लोगों के साथ रोहिंग्या शरणार्थी संकट पर अपने काम के लिए पुलित्जर पुरस्कार जीता था। अपने हाल के कार्यों में, उन्होंने देशव्यापी नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के विरोध और उत्तर पूर्वी दिल्ली में मुस्लिम समुदायों पर हिंसा को व्यापक रूप से कवर किया था।

दिल्ली दंगों के दौरान दानिश द्वारा खींची गई तस्वीर

ऐसे समय में जब भारत सरकार लगातार कोविड 19 से हुई मौतों की संख्या में हेराफेरी कर रही थी, दानिश की खींची गई अंतिम संस्कार की चिताओं की तस्वीरों और गंगा के किनारे भगवा कपड़े पहने शवों की ड्रोन छवियों ने भारत में कोरोना वायरस की सच्चाई को वैश्विक सुर्खियों में ला दिया था।

कोविड 19 की दूसरी लहर के दौरान सामूहिक चिताओं की तस्वीर

जब एबीसी न्यूज के एक रिपोर्टर के साथ कोविड 19 की क्रूर दूसरी लहर के दस्तावेजीकरण के लिए दानिश की प्रशंसा की गई, तो उन्होंने जवाब दिया था कि, ‘हमारे आसपास जो हो रहा है, उसका दस्तावेजीकरण करना हमारा कर्तव्य है।’

मौजूदा समय में जब मीडिया संस्थानों पर सरकारी दमन और दबाव, समाज की मौजूदा सच्चाई को उजागर करने से रोक रहा है, दानिश ने पत्रकारिता के उसूलों और मानकों को और ऊंचा उठाते हुए हमेशा राह दिखाने वाली जनपक्षीय पत्रकारिता की। दानिश सिद्दीकी की असामयिक मौत जनपक्षीय पत्रकारिता के लिए बड़ा नुकसान है।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: