मई दिवस विशेष : चित्र कथा – काम नहीं है, आखिर क्यों?

लगातार बढ़ते विकास के बावजूद मज़दूरों के लिए काम क्यों नहीं है? रोज सुबह धक्के क्यों खाने पड़ते हैं? नौकरी की गारंटी क्यों खत्म हो गई? …मई दिवस पर आइए जाने चित्र कथा के माध्यम से, मज़दूरों की जुबानी…

संघर्षरत मेहनतकश पत्रिका अंक-40 में प्रकाशित

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: