पाकिस्तान: छात्र आंदोलन हुआ तेज

छात्र एकजुटता मार्च में लगे आज़ादी के नारे !

बीते 29 नवंबर को पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में छात्रों का देशव्यापी जुलूस प्रदर्शन हुआ। पाकिस्तान के 50 शहरों में छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया और अपने छात्र संघों की बहाली और शैक्षिक सुविधाओं में सुधार की मांग की। इस विरोध प्रदर्शन के दौरान छात्रों ने जमकर आजादी के नारे लगाए।

छात्रों की इस एकजुटता मार्च को प्रोग्रेसिव स्टूडेंट्स कलेक्टिव (PSC) ने आयोजित किया। स्टूडेंट एक्शन कमेटी (एसएसी) के नेतृत्व में हुए इस मार्च को राजनैतिक दलों के साथ-साथ, किसान, मजदूर और अल्पसंख्यक समुदायों के संगठनों का समर्थन हासिल रहा। स्थानीय मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मार्च के मायने इसलिए अधिक हैं, क्योंकि इसमें विद्यार्थियों के साथ-साथ उनके माता-पिता, वकील व सिविल सोसाइटी के सदस्य भी शामिल हुए।

पाकिस्तान में छात्रों का एकजुटता मार्च एक ऐतिहासिक घटना है। 2018 में भी पाकिस्तान में छात्रों का ऐसा आंदोलन हुआ था। पाकिस्तान में हुए छात्र एकजुटता मार्च की ख़ासियत यह रही कि इस मार्च में छात्रों के इस आंदोलन में समाज के अन्य तबकों के लोग भी शामिल हुए। सभी प्रांतों में शुक्रवार को जगह-जगह निकाले गए ‘छात्र एकजुटता मार्च’ में अभिव्यक्ति और दमन से आजादी की मांग करते हुए ‘हमें क्या चाहिए। आजादी’ के नारे लगाए गए। सबसे दिलचस्प बात यह है कि विरोध प्रदर्शन के दौरान आज़ादी के नारे लगाने के बाद वहां की सरकार ने भी कई छात्रों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज़ किया!

बताया जा रहा है कि जिन छात्रों ने नारे लगाए वो छात्र वामपंथी प्रगतिशील समूह के सदस्य हैं। छात्रों का यह आंदोलन बीते करीब एक महीने से ज्यादा समय से जारी है। छात्रों ने ‘कह कर लेंगे आजादी, लड़कर लेंगे आजादी, हम क्या मांगें आजादी, पढ़ने की आजादी जैसे नारे लगाये।’ किन्तु किसी भी पाकिस्तानी मीडिया ने इन छात्रों को गद्दार या टुकड़े-टुकड़े गैंग नहीं कहा!

एक तरफ जहां अपने देश भारत में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में छात्र फ़ीस वृद्धि और हॉस्टल मैनुएल व अन्य नियमों की वापसी के लिए लगातार आंदोलन कर रहे हैं और देशभर से इस आंदोलन को समर्थन मिल रहा है ठीक ऐसे समय में पाकिस्तान में छात्रों का आंदोलन यह साबित करता है कि पाकिस्तान में भी शिक्षा पर सरकार का ध्यान नहीं है और छात्रों को शिक्षा के लिए संघर्ष करना पड़ रहा हैं।

सरकार की नीतियों को मुद्दा बनाकर पाकिस्तान के छात्र लगातार इमरान सरकार के विरोध में प्रदर्शन कर रहे हैं।पाकिस्तान के छात्रों का ये प्रदर्शन भी कुछ कुछ वैसा ही है जैसा हम बीते कई दिनों से भारत के जेनएयू में देखते चले आ रहे हैं। पाकिस्तान में भी वही नारे लग रहे हैं।

%d bloggers like this: