मारुति मजदूर

मारुति की 2012 की घटना की याद दिलाती रमेश उपाध्याय की एक कहानी

“हम किस देश के वासी हैं“ प्रसिद्ध साहित्यकार रमेश उपाध्याय का कोरोना और अस्पताल की…

उम्र कैद व कैंसर से जूझते जूझते एक और मारुति मज़दूर साथी जियालाल नहीं रहे

ज़ालिम व्यवस्था में ज़िंदगी चली गई, लेकिन जमानत भी नहीं मिली मारुति सुजुकी मानेसर प्लांट…

मारुति गुडगाँव व मानेसर के मज़दूरों ने फिर निभाया भाईचारा

अन्यायपूर्ण उम्रक़ैद झेलते मारुति मज़दूरों को दिया 65 लाख का आर्थिक सहयोग गुडगाँव। अन्यायपूर्ण उम्र…

%d bloggers like this: