जयपुर: शालीमार केमिकल फैक्ट्री में बॉयलर फटा, लगी आग; 5 मज़दूरों की दर्दनाक मौत, 4 गंभीर

धरूहेड़ा के बाद जयपुर: आग की तीव्रता इतनी तेज थी कि इसने पूरी फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। मजदूरों को भागने का मौका ही नहीं मिला और वे बुरी तरह झुलस गए।

राजस्थान की राजधानी जयपुर एक केमिकल फैक्ट्री शालीमार में विस्फोट के बाद भीषण आग लग गई। इस हादसे में 5 मजदूर जिंदा जल गए, जबकि कई मज़दूर गंभीर रूप से घायल हैं। हादसे की सूचना पर अग्निशामक वाहन मौके पर पहुंच गए हैं। राहत-बचाव कार्य को शुरू कर दिया गया है।  

मिली जानकारी के अनुसार जयपुर के ग्रामीण क्षेत्र के बस्सी इलाके के आबादी वाले क्षेत्र में शालीमार केमिकल की फैक्ट्री में आग लगने की यह भीषण घटना हुई है। शनिवार शाम को फैक्ट्री के मजदूर काम कर रहे थे। अचानक बॉयलर फट गया जिसके बाद फैक्ट्री में भीषण आग लग गई।

आग की तीव्रता इतनी तेज थी कि कुछ ही देर में आग ने फैक्ट्री को अपनी चपेट में ले लिया। मजदूरों को बाहर भागने का मौका ही नहीं मिल पाया और उसमे फंसे 5 मजदूरों की बुरी तरह जलकर मौके पर मौत हो गई। सभी मृतक स्थानीय बताए जा रहे है।

वहीं कम से कम चार मज़दूर गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं, जिन्हें इलाज के लिए एसएमएस अस्पताल रेफर किया गया है। हालांकि घायलों की संख्या और ज्यादा हो सकती है।

आग की लपटे और धुंआ देखकर आस पास के ग्रामीण मौके पर एकत्रित हो गए। ग्रामीणों ने ही पुलिस को घटना की सूचना दी। जिसके बाद पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंचे। फिलहाल पुलिस ने पांचों शवों को कब्जे में ले लिया है। घायल मजदूरों को उपचार के लिए जयपुर भिजवाया है।

हादसे के बाद फैक्ट्री मालिक फरार

घटना के बाद फैक्ट्री मालिक मौके से फरार है। मुख्य अग्निशमन अधिकारी देवेंद्र कुमार के मुताबिक फैक्ट्री में आपातकाल परिस्थितियों से निपटने के लिए फायर सिस्टम का अभाव था। फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है।

धारूहेड़ा फैक्ट्री हादसे में मृतकों की संख्या 10 हुई

ज्ञात हो कि अभी कुछ दिन पहले हरियाणा के रेवाड़ी जिले के इंडस्ट्रियल एरिया धारूहेड़ा स्थित लाइफलॉन्ग फैक्ट्री में ऐसा ही हादसा हुआ था, जिसमें कई श्रमिक घायल हुए थे। ये घटना 16 मार्च को शाम करीब पौने सात बजे हुई, जब ब्लास्ट होने से करीब 40 श्रमिक झुलस गए थे।

ब्लास्ट के बाद पाइपों से निकले कैमिकल से श्रमिकों के शरीर बुरी तरह झुलस गए। हादसे में घायल हुए अब तीन और श्रमिकों की इलाज के दौरान मौत हो गई। जिससे मृतकों की संख्या 10 हो गई।

About Post Author