इज़राइल फ़िलिस्तीनियों के प्रतिरोध से क्यों डरता है?

कब्जे वाले वेस्ट बैंक और गाजा से सभी इजरायली बलों को बिना शर्त वापस लो! इज़रायल अवैध हथियारों के साथ सबसे घातक सैन्य हमले द्वारा संपूर्ण फ़िलिस्तीनी भूमि पर उपनिवेश बनाकर अवैध बस्तियाँ बनाई जा रही हैं।

इजराइल द्वारा फिलिस्तीन पर आपराधिक हमले और नरसंहार जारी हैं। ताजा घटनाओं में दक्षिणी गाजा में कथित इस्राइल रक्षा बल (IDF) की एयर स्ट्राइक हुई है। दूसरी तरफ राफा में इजरायली सेना द्वारा मिसाइल हमले में एकबार फिर कई लोगों की मौत हो गई है. हमले के बाद पूरे इलाके में चीख पुकार मच गई है।

इस बीच इज़राइल के वित्त मंत्री बेजेलेल स्मोट्रिच ने रविवार को इजरायली सेना रेडियो से बात करते हुए गाजा के फिलिस्तीनी निवासियों से घिरे हुए क्षेत्र को फिलिस्तीनियों से छोड़ने का आह्वान किया है। जवाब में, हमास ने दो मिलियन फिलिस्तीनियों को विस्थापित करने के आह्वान को एक तरह का युद्ध अपराध बताया है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय व संयुक्त राष्ट्र को इजरायल के अपराधों को रोकने के लिए कार्रवाई करने की माँग की है।

रविवार को एक भाषण में, फिलिस्तीनी राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने फिलिस्तीनियों को अपने घर छोड़ने के लिए मजबूर करने के किसी भी कदम को खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि हम विस्थापन की इजाजत नहीं देंगे, चाहे गाजा पट्टी या फिर वेस्ट बैंक।

यह इजरायली आतताईओ का नया बयान नहीं है। तथाकथित इजरायली क्षेत्र पर हमास के हमले पर एक बयान में, प्रधान मंत्री नेतन्याहू ने कहा कि यह हमास था जिसने इसे शुरू किया था और इजरायल राज्य इसे समाप्त कर देगा। क्या मामला इतने भोलेपन का है?

यह एक साम्राज्यवादी षणयंत्र है

1910 के दशक में यहूदियों की मातृभूमि बनाने के लिए तत्कालीन ब्रिटिश साम्राज्य के एक ड्रीम प्रोजेक्ट के रूप में शुरू हुई इजरायली उपनिवेशवादी परियोजना में असंख्य फिलिस्तीनियों की जान और जमीन खर्च हुई।

एक शताब्दी से अधिक समय से फिलिस्तीनियों को एक गतिरोध की ओर धकेल दिया गया है क्योंकि तत्कालीन ब्रिटेन और वर्तमान अमेरिकी नेतृत्व वाले नाटो ब्लॉक ने मध्य-पूर्व को नियंत्रित करने के लिए एक रणनीतिक क्षेत्र के रूप में भूमि के इस टुकड़े को नियंत्रित करने की कोशिश की थी।

दो-राज्य समाधान के संयुक्त राष्ट्र समझौते को फिलिस्तीनियों के गले में एक जहर के रूप में डाला गया था जो फिलिस्तीनी राष्ट्रीयता को हमेशा के लिए समाप्त कर देगा। संयुक्त राष्ट्र के 56-44 समझौते के बाद भी, इजरायल ने अमेरिकी सहयोगियों के समर्थन से आक्रामकता जारी रखी है।

इज़रायल अवैध हथियारों के साथ सबसे घातक सैन्य हमले का नेतृत्व कर रहा है, जिससे संपूर्ण फ़िलिस्तीनी भूमि पर उपनिवेश बनाकर अवैध बस्तियाँ बनाई जा रही हैं। फ़िलिस्तीनियों ने बार-बार विरोध किया है।

पीएलओ का संघर्ष और इजरायलियों की खुली मनमानी

पीएलओ (फिलिस्तीनी लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन) के नेतृत्व में 1980 के दशक के अंत में शुरू हुआ इंतिफादा 1993 में एक समझौते पर पहुँचा जब वेस्ट बैंक और गाजा पट्टी को फिलिस्तीनी प्राधिकरण के तहत बनाया गया था।

इसके बावजूद, इजरायलियों ने सबसे उन्नत निगरानी प्रौद्योगिकियों के साथ गाजा की आसमानी सीमाओं, समुद्रों को नियंत्रित कर लिया है, और भूमि को एक खुली जेल में बदल दिया है। हमास, मूल प्रतिक्रियावादी मुस्लिम भाईचारे का एक गुट है जिसे इजरायली अधिकारियों ने खुद यासर अराफात के नेतृत्व वाले पीएलओ को कमजोर करने के लिए बनाया था। पीएलओ, विशेषकर फतह और हमास के बीच अंदरूनी लड़ाई ने फिलिस्तीनी आंदोलन को काफी कमजोर कर दिया था।

संयुक्त अरब अमीरात जैसे अन्य मुस्लिम देशों की भूमिका हमेशा संदिग्ध रही है क्योंकि उन्होंने कभी भी खुले तौर पर फिलिस्तीनी मुद्दे का पक्ष नहीं लिया है और वित्तीय लाभ सुरक्षित करने के लिए अमेरिका के साथ सहयोग किया है, यह अच्छी तरह से जानते हुए भी कि गाजा-इज़राइल-वेस्ट बैंक क्षेत्र में अमेरिकी-साम्राज्यवादी महत्वाकांक्षाओं के लिए ही फिलिस्तीनियों की दुर्दशा बनी है।

फ़िलिस्तीन जनता की राष्ट्रीयता का संघर्ष और भारत की नीति

फ़िलिस्तीन के लोगों को अपनी राष्ट्रीयता की रक्षा करनी चाहिए और सभी आक्रामकता को रोकने के लिए इज़राइल को पीछे धकेलना चाहिए। इस बीच, आरएसएस-भाजपा के नेतृत्व वाले फासीवादी शासन के साथ संघर्ष के संबंध में भारत के विदेशी संबंधों में बदलाव स्पष्ट है, जो इजरायल का समर्थन करने की ओर अधिक झुक रहा है और इजराइल का समर्थन करने के लिए मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से लोकप्रिय राय बना रहा है।

इससे पहले, भारत की विदेश नीति ने हमेशा फिलिस्तीनी मुक्ति संघर्ष का समर्थन किया था। ये अमेरिकी साम्राज्यवादी शक्ति की छूट के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सत्तावादी-फासीवादी ब्लॉक के मजबूत होने के स्पष्ट संकेत हैं।

मध्य-पूर्व में इजरायली आक्रामकता के खिलाफ जनता के भीतर मजबूत राय बनानी होगी और सभी फिलिस्तीनी क्षेत्रों से इजरायली बलों की तत्काल वापसी की मांग करनी होगी, साथ ही फिलिस्तीनी आत्मनिर्णय की मांग को लोकप्रिय बनाकर भारत के साथ फासीवादी आंदोलन को कमजोर करने के लिए रचनात्मक तकनीकों का आविष्कार करना होगा, ताकि ऐसी बर्बरता को समाप्त किया जा सके।

अंत में, अरब जगत की प्रगतिशील ताकतों को एक मजबूत समाजवादी आंदोलन के माध्यम से मध्य-पूर्व में अमेरिकी साम्राज्यवाद के द्वारपाल इजरायल को अलग-थलग करने के लिए एकजुट होना होगा ताकि फिलिस्तीनियों को अपना जीवन और जमीन वापस मिल सके।

फिलिस्तीनी में इज़रायली नरसंहार

फिलिस्तीन के गाजा पट्टी में इज़रायल की 7 अक्टूबर से जारी विध्वंसक बमबारी में खबर लिखे जाने तक 12000 से ज्यादा की मौत हो चुकी है, जिनमें 5000 से ज्यादा बच्चे हैं। इज़रायल जिन पर गोले दाग रहा है, वे निहत्थे औरतें-बच्चे-नौजवान-बूढ़े फ़िलिस्तीनी नागरिक हैं, जिनके मकानों को जमींदोज कर दिया गया है। अस्पताल, मरीज, डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मचारी, एंबुलेंस, राहत/बचाव दल, राहत/शरणार्थी शिविर, स्कूल, पानी-बिजली-राशन, पत्रकार/मीडिया संस्थान, संयुक्त राष्ट्र संघ के दफ़्तर/कर्मचारी… सभी इसके शिकार हैं। यह सुनियोजित जनसंहार है!

‘संघर्षरत मेहनतकश’ पत्रिका अंक-51 में प्रकाशित

About Post Author