13 माह का संघर्ष, नेस्ले इंडिया पंतनगर में तीन साल के लिए औसत ₹15,550 का वेतन समझौता सम्पन्न

तकनीकी वर्ग में ₹13,350 से ₹18,250 व गैर तकनीकी वर्ग में ₹6,333 से ₹6,533 वेतन वृद्धि, अन्य सुविधाओं तथा श्रमिकों पर लंबित सभी मामले खत्म करने की सहमति बनी है।

पंतनगर (उत्तराखंड)। नेस्ले इंडिया पंतनगर प्लांट में एक साल पूर्व दिए गए मांग पत्र पर लगातार संघर्षों, आंदोलन के विविध रूपों, ऑल इंडिया नेस्ले वर्कर्स फेडरेशन के हस्तक्षेप और कई दौर की द्विपक्षी व त्रिपक्षीय वार्ताओं के बाद दोनों यूनियनों के साथ प्रबंधन का औसतन 15,550 रुपए सीटीसी में 3 साल के लिए वेतन वृद्धि का समझौता संपन्न हो गया है।

संघर्ष के 13 महीने

उल्लेखनीय है कि नेस्ले पंतनगर इकाई की दोनों यूनियनों- नेस्ले मज़दूर संघ व नेस्ले कर्मचारी संगठन ने प्रबंधन को नए समझौते के लिए 5 सितंबर 2022 को मांग पत्र दिया था। लेकिन पंतनगर प्रबंधन की हठधर्मिता के कारण एक साल से विवाद और गतिरोध लगातार जारी रहा।

यूनियन प्रतिनिधियों ने बताया कि प्रबंधन द्वारा मज़दूरों पर दबाव बनने के लिए कई श्रमिकों को फर्जी आरोप पत्र देने, घरेलू जांच के बहाने परेशान करने का क्रम जारी रहा। प्रबंधन ने 2020 के समझौते के कुछ बिंदुओं का भी उल्लंघन किया, जिसका विवाद भी लंबित था।

इन स्थितियों में नेस्ले के मजदूर दोनों यूनियनों के नेतृत्व में लगातार संघर्षरत रहे। कोई समाधान न निकालने से पहले दोनों यूनियनों की वार्ताकार टीम ने फिर प्लांट के समस्त श्रमिको ने भूखे पेट अपनी शिफ्ट में काम शुरू किया। इस दौरान धरना-प्रदर्शन और शांतिपूर्ण विरोध कार्यक्रम जारी रहे।

गतिरोध की स्थिति में आंदोलन की कमान ऑल इंडिया नेस्ले वर्कर्स फेडरेशन ने संभाली। फेडरेशन के पत्रों पर भी नेस्ले शीर्ष प्रबंधन ने कोई संज्ञान नहीं लिया तो उसके आह्वान पर नेस्ले के भारत में स्थित सभी सात प्लांटों- पंतनगर, विचोलियम, पौंडा, नंजंगुड, समालखा, टाहलीवाल, चोलाडि  में एक साथ विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया।

लगातार जुझारू संघर्षों, कई दौर की द्विपक्षीय तथा सहायक श्रमआयुक्त व उप श्रमयुक्त ऊधम सिंह नगर की मध्यस्थता में लगातार जारी आईआर वार्ताओं के बाद 12 अक्टूबर, 2023 को श्रम भवन रुद्रपुर में आम सहमति कायम हुई। उसके बाद समझौते का प्रपत्र सर्व सहमति से तैयार हुआ, 26 अक्टूबर को हस्ताक्षरित होकर आज 27 अक्टूबर, 2023 को एएलसी के समक्ष दाखिल हुआ।

समझौते के मुख्य बिन्दु-

★ समझौता 1 अप्रैल 2023 से 31 मार्च 2026 (3 वर्ष) के लिए है। सहमति बनी है कि जुलाई 2025 में यूनियने नया मांग पत्र देंगी और दिसंबर 2025 तक समझौता संपन्न होने पर जनवरी 2026 से नया समझौता लागू हो जाएगा।

★ समझौता स्थाई टेक्नीशियन कामगार और गैर तकनीकी स्टाफ सहयोगी पर लागू होगा।

वेतन में वृद्धि-

★ तकनीकी प्रवर्ग में न्यूनतम ₹13,350 और इसी क्रम में अधिकतम ₹18,250 की, जबकि गैर तकनीकी प्रवर्ग में न्यूनतम ₹6,333 और अधिकतम ₹6533 रुपए की वेतन वृद्धि होगी;

★ अप्रैल 2023 से सभी श्रमिकों को एरिया मिलेगा;

★ वेतन वृद्धि का लाभ तीन वर्षों में क्रमशः 50%,25% व 25% मिलेगा;

★ वेतन का 80% पीएफ योग्य वेतन के रूप में और 20% भत्ते के रूप में समायोजित होगा, जिसमें बेसिक वेतन का हिस्सा वर्ष 2023 में समायोजित हो जाएगा;

★ पदोन्नति पर बेसिक में वार्षिक वेतन वृद्धि और संशोधन लागू होगा, भत्ते और अन्य वेतन घटक पर सहमति हुई है;

★ रात्रि पाली भत्ते में ₹20 प्रति वर्ष की वृद्धि हुई है;

★ दैनिक उत्पादन कार्यक्रम के तहत परिवर्तनीय वेतन का लाभ मिलेगा। इसके तहत सिल्वर बैंड- (98-100% व्यवसाय) पर 80% प्रोत्साहन राशि, गोल्ड बैंड- (100-102% व्यवसाय) पर 100% प्रोत्साहन राशि और डायमंड बैंड- (102% से ऊपर व्यवसाय) पर 120% प्रोत्साहन राशि मिलेगी।

महंगाई भत्ता

★ नेस्ले में शिमला पैक्ट के अनुसार परिवर्तनीय महंगाई भत्ता प्राप्त होता है वह लाभ मिलता रहेगा जो इस वक्त ₹2.40 है;

★ नेस्ले में एक फिक्स्ड महंगाई भत्ता भी लागू है जो जारी रहेगा।

★ गैर तकनीकी श्रमिको का महंगाई भत्ता ₹1 था जो बढ़कर ₹2.40 हो गया है।

त्योहार-उपहार-

★ दिवाली उपहार के रूप में ₹1800 के मिलने वाले वार्षिक कूपन में वृद्धि हुई है जो 2023 में ₹2000, 2024 में ₹2200 और 2025 में ₹2400 रुपए होगा;

★ दीपावली में मिलने वाली मिठाई/चॉकलेट ₹240 से बढ़कर ₹560 प्रतिवर्ष हुआ है;

★ कंपनी में बनने वाले नए उत्पाद पर दिवाली पर प्रति वर्ष ₹400 का वार्षिक अमेजॉन कूपन मिलेगा। पूर्व समझौते के उलंघन के रूप में विगत वर्षों के लिए ₹500 का अमेजॉन कूपन मिलेगा।

परिवहन सुविधा में वृद्धि-

★ पूर्व में मिलने वाली परिवहन सुविधा के अतिरिक्त शांतिपुर मार्ग पर तीनों पालियों में एक नया बस चलाया जाएगा, धरमपुर-रुद्रपुर मार्ग में व्यवहार्ता का पता लगाकर इसकी सहमति बनेगी;

★ परिवहन सुविधा के लिए पहले कंपनी द्वारा 60% और श्रमिकों द्वारा 40% हिस्सा था, वह अब कंपनी द्वारा 70% और श्रमिकों द्वारा 30% होगा।

सहमति के अन्य बिन्दु-

★ एक कैलेंडर वर्ष में 10 श्रमिकों को मिलने वाला आकस्मिक अवकाश बढ़कर 15 श्रमिकों के लिए हुआ है;

★ 300 दिनों की छुट्टी की समाप्ति के बाद अतिरिक्त 150 दिनों की विशेष मंजूरी पर छुट्टी मिलेगी;

★ 45 दिनों के अर्जित अवकाश संचय सीमा को संशोधित करके 50 दिन का हुआ है;

★ इस समझौते के तहत गैर तकनीकी कोलैबोरेटर्स के लिए pnc-3 ग्रेड, तकनीकी श्रमिकों के लिए ग्रेड-8 और स्टाफ के लिए exeasst-2 का नया संयोजन किया गया है;

★ जो प्रशिक्षु के लिए कम से कम 1 वर्ष और परवीक्षाधीन के रूप में 6 महीने बिताएंगे वे जूनियर टेक्नीशियन ग्रेड में जाने के पात्र होंगे उन्हें स्टार ग्रेड मिलेगा;

★ वार्षिक चिकित्सा स्वास्थ्य जांच में लिवर फंक्शन टेस्ट और किडनी फंक्शन टेस्ट को भी जोड़ा गया है;

आंदोलन के दौरान 70 श्रमिकों को जारी कारण बताओं नोटिस/आरोप पत्र/घरेलू जांच संबंधित श्रमिकों पर किसी प्रतिकूल प्रभाव के पड़े निस्तारित किया जाएगा।

समझौते की जानकारी नेस्ले कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष धनबीर सिंह व महामंत्री चंद्र मोहन लखेड़ा तथा नेस्ले मज़दूर संघ के अध्यक्ष मुकेश चंद्र पांडे व मंत्री निर्मल पाठक ने दी।

यूनियन नेताओं ने कहा कि इस सम्मानजनक समझौते व इस जीत के लिए नेस्ले पन्तनगर के समस्त श्रमिकों की जुझारू एकता व धैर्य तथा भारत स्थित नेस्ले के सभी सात इकाइयों के सक्रिय समर्थन और ऑल इंडिया नेस्ले वर्कर्स फेडरेशन के कुशल नेतृत्व व पहलकदमी को दिया है।

नेस्ले की दोनों यूनियनों की एकजजुटाता, मज़दूरों के एकताबद्ध संघर्ष और ऑल इंडिया नेस्ले वर्कर्स फेडरेशन के सहयोग से सम्पन्न इस समझौते पर मज़दूर सहयोग केन्द्र ने नेतृत्वकारी साथियों व सभी मज़दूरों को बधाई दी है।

%d bloggers like this: