फ्रांस में पेंशन बिल के खिलाफ 10 लाख लोग उतरे सड़कों पर; ब्रिटिश राजा की राजकीय यात्रा स्थगित

ट्रेन यातायात मंद पड़ गया और मार्सिले के वाणिज्यिक बंदरगाह तक ट्रकों की कतारें लग गईं। परिवहन, स्कूल और तेल रिफ़ाइनरी का काम प्रभावित है। 450 से अधिक आंदोलनकारी गिरफ्तार।

फ़्रांस में पेंशन मिलने की उम्र बढ़ाने के खिलाफ आंदोलन लगातार तेज और उग्र होता जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुवार को फ्रांस में करीब 10 लाख लोगों ने सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया। वहीं राजधानी पेरिस में करीब 1 लाख 19 हजार लोग प्रदर्शन में शामिल हुए।

क्योंकि श्रमिकों ने सेवानिवृत्ति की आयु में वृद्धि के विरोध में राष्ट्रीय हड़ताल की, जिसे बिना वोट के संसद के माध्यम से पारित किया गया था।

इस बीच देश भर में जारी व्यापक आंदोलन के कारण फ्रांस सरकार ने ब्रिटेन के किंग चार्ल्स III के नियोजित राजकीय यात्रा को स्थगित कर दिया।

हड़ताल से व्यवस्था ठप

गुरुवार को देश में हुए व्यापक प्रदर्शन के बाद शुक्रवार को भी देश में अलग-अलग स्थानों पर प्रदर्शन जारी रहा, जिसके कारण ट्रेन यातायात मंद पड़ गया और मार्सिले के वाणिज्यिक बंदरगाह तक ट्रकों की कतारें लग गईं। फ्रांसीसी परिवहन नेटवर्क, तेल रिफाइनरियों और स्कूलों को गुरुवार को व्यापक व्यवधान का सामना करना पड़ा।

पेरिस में 14 में से केवल दो मेट्रो लाइनें सामान्य सेवा का संचालन कर रही थीं। शहर और इसके उपनगरों में चलने वाली आरईआर ट्रेन सेवाएं गंभीर रूप से कम हो गईं और हाई-स्पीड टीजीवी ट्रेनों में से केवल आधी ही काम कर रही थीं। राष्ट्रव्यापी हड़ताल ने हवाई यातायात को भी प्रभावित किया है, पेरिस ओरली हवाई अड्डे पर 30% उड़ानें प्रभावित हुई हैं।

इस दौरान पुलिस से मुठभेड़ में तमाम लोगों को चोटें भी आईं। उधर प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को बोर्डो टाउन हॉल में आग लगी दी। पेरिस में और आसपास से गुरुवार को 450 से अधिक प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया। इसके बावजूद आंदोलन तेज होता जा रहा है।

सरकार के मनमाने क़दम से लोगों मे आक्रोश तेज

राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के संसद में बिना मतदान कराए सेवानिवृत्त होने की अधिकमत आयु बढ़ाए जाने के बाद लोगों का गुस्सा फूटने के बाद देश के श्रमिक संगठनों ने गुरुवार को पहली बार बड़े पैमाने पर प्रदर्शन किया। श्रमिकों की हड़ताल से गुरुवार को परिवहन व्यवस्था बुरी तरह चरमरा गई।

प्रदर्शनकारियों ने रेलवे स्टेशनों, पेरिस में चा‌र्ल्स डे गौल्ले हवाई अड्डे और रिफाइनरी पर जाम लगाया। इससे हाई स्पीड एवं अन्य ट्रेनें, पेरिस मेट्रो और अन्य बड़े शहरों में सार्वजनिक यातायात प्रणाली बाधित हुई। पेरिस के ओर्ले हवाई अड्डे पर करीब 30 प्रतिशत उड़ानें निरस्त कर दी गईं।

फ्रांस के आठ मुख्य श्रमिक संघ जनवरी से आंदोलन कर रहे हैं। गुरुवार को राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन एवं हड़ताल का नौंवा चरण था। पेंशन सुधार और मैक्रों के नेतृत्व के विरोध में जारी प्रदर्शनों ने हिंसक रूप भी ले रहा है।

सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव गिरने के बाद हुए प्रदर्शन में फ्रांस की राजधानी में 1,000 कूड़ेदान में आग लगा दी गई थी। एक सप्ताह से जारी कूड़ा उठाने वालों की हड़ताल के बीच कूड़ादान विरोध का प्रतीक बन गए हैं।

ब्रिटिश राजा की राजकीय यात्रा स्थगित

व्यापक होते आंदोलन के बीच फ्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय ने घोषणा की कि ब्रिटिश राजा चार्ल्स III की राजकीय यात्रा स्थगित कर दी गई है। बुधवार को जर्मनी जाने से पहले, वह सम्राट के रूप में अपनी पहली राजकीय यात्रा पर रविवार को फ्रांस आने वाले थे। यात्रा का जर्मन हिस्सा अभी भी आगे बढ़ रहा था।

%d bloggers like this: