राजस्थान: ‘रोडवेज बचाओ’ आंदोलन में ढोल बजाकर कर्मचारियों ने जताई नाराजगी; 24 को हड़ताल

ढोल बजाने का कार्यक्रम सिंधीकैंप बस स्टैंड पर आयोजित हुआ। ढोल बजाते हुए कर्मचारियों ने रोडवेज बचाओ के नारे लगाए और सरकार विरोधी और रोडवेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की।

जयपुर। राजस्थान रोडवेज के संयुक्त मोर्चा की ओर से आज ‘रोडवेज बचाओ’ आंदोलन के तहत सातवें चरण का आयोजन किया गया। इस दौरान ‘ढोल बजाओ, सरकार जगाओ’ कार्यक्रम में ढोल बजाकर सरकार के खिलाफ कर्मचारियों ने नाराजगी जाहिर की। संयुक्त मोर्चा के प्रदेश संयोजक एमएल यादव ने बताया कि इस दौरान बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे।

उन्होंने कहा कि कुल 9 चरणों में आंदोलन किया जा रहा है, जिसमें आखिरी चरण हड़ताल का होगा। यह हड़ताल 24 नवंबर को आयोजित होगी। ढोल बजाने का कार्यक्रम सिंधीकैंप बस स्टैंड पर आयोजित हुआ। यहां पर अचानक कर्मचारियों को ढोल बजाते देख यात्रियों में भी यह चर्चा का विषय पैदा हो गया कि आखिर कर्मचारी अचानक ढोल क्यों बजाने लग गए। ढोल बजाते हुए कर्मचारियों ने रोडवेज बचाओ के नारे लगाए। साथ ही सरकार विरोधी और रोडवेज प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी की।

प्रदर्शन के बाद हुई आम सभा को संयुक्त मोर्चे के प्रदेश संयोजक एम.एल.यादव, एटक के महासचिव धर्मवीर चौधरी, सीटू के कार्यकारी अध्यक्ष सतबीर सिंह चौधरी, इंटक के संयोजक आलोक दुबे, एसोसिएशन के महासचिव हरगोविंद शर्मा, कल्याण समिति के महासचिव शुभकरण आढा ने संबोधित किया। रोडवेज के नेताओं ने कहा कि आंदोलन को चलते दो माह का समय गुजर चुका है। इसके बावजूद राज्य सरकार एवं रोडवेज प्रबंधन की मांगों के समाधान के प्रति उदासीनता के कारण कर्मचारियों के समक्ष आंदोलन को आगे बढ़ाने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नहीं है। इसलिए 24 नवंबर को प्रदेशव्यापी हड़ताल होगी।

पत्रिका से साभार

%d bloggers like this: