भिकियासैंण: जगदीश हत्याकांड के विरोध में जोरदार प्रदर्शन; मुख्यमंत्री के इस्तीफे की उठी माँग

चेतावनी: यदि माँगें नज़रन्दाज़ हुईं तो अल्मोड़ा मुख्यालय पर प्रदर्शन कर सांसद का घेराव होगा। जरूरत पड़ी तो मुख्यमंत्री का घेराव कर सत्ता से जुड़े लोगों का भी विरोध होगा।

अल्मोड़ा (उत्तराखंड)। सवर्ण युवती से प्रेम विवाह करने वाले उपपा के युवा दलित नेता जगदीश चंद्र की नृसंश हत्या के बाद आक्रोश बढ़ता जा रहा है। हत्या के विरोध में 11 सितंबर रविवार को भिकियासैंण बाजार में सैकड़ो की तादात में लोग सड़क पर उतर आए। भारी सुरक्षा के बीच विशाल जुलूस निकाला।

दिवंगत जगदीश की पत्नी और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी के साथ मुआवजा और सुरक्षा, जगदीश की सुरक्षा में लापरवाही बरतने वाले अल्मोड़ा एसएसपी और डीएम को सस्पेंड करने की मांग को लेकर सैंकड़ों की संख्या में आए प्रदर्शनकारी भिक्यासैण पहुंचे।

प्रदर्शनकारियों ने जुलूस निकालकर बड़याली बाजार, पुलिस चौकी, तहसील चौक से होते हुए वापस बड़याली तिराहे पहुंचा, जो एक बड़ी जनसभा में बदल गया।

वक्ताओं ने जातिवादी मानसिकता पर करारा हमला बोलते हुए कहा कि समाज में व्याप्त जातिवादी ढांचे को तोड़कर सामाजिक समरसता का वातावरण तैयार करने के लिए समाज के प्रबुद्ध लोगों को आगे आना पड़ेगा। वक्ताओं ने प्रदर्शनकारियों के चारो तरफ फैली पुलिस पर सवाल उठाते हुए कहा कि जब लोगों को पुलिस की मदद की जरूरत होती है, उस समय पुलिस बगले झांकने लगती है।

लेकिन जब जनता अपने मुद्दों को लेकर सड़क पर उतरती है तो पूरा पुलिस तंत्र जनता के प्रतिरोध को दबाने के लिए सड़कों पर उतर आता है।

वक्ताओं ने चेतावनी दी कि यदि उनकी मांगों को नज़रन्दाज़ करने की कोशिश की तो इसके बाद अल्मोड़ा जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन किया जायेगा। जरूरत पड़ी तो मामले में मुख्यमंत्री का घेराव कर सत्ता प्रतिष्ठान से जुड़े लोगों का भी विरोध किया जाएगा।

सभा को उपपा के केन्द्रीय अध्यक्ष पीसी तिवारी, समाजवादी लोक मंच के मुनीष कुमार, अल्मोड़ा के एड. नारायण राम, एड. प्रेम आर्या, एड. जीवन चंद्र, उच्च न्यायालय की अधिवक्ता स्निग्धा तिवारी, आनंदी वर्मा, नंदी नैनवाल, उछास की भारती पांडे, द्वाराहाट के भुवन लहरी, नैनीताल की माया चिलवाल, डॉ. उमा भट्ट, बसंती पाठक, पौड़ी के नरेश चंद्र नौड़ियाल, रामनगर के चिंता राम, लालमणि, किरन आर्या, अमीनुर्रहमान, नैनीताल से आए वरिष्ठ पत्रकार उमेश तिवारी विश्वास, संयुक्त किसान संघर्ष समिति के ललित उप्रेती, इंकलाबी मज़दूर केंद्र के रोहित, ईको सेंसिटिव ज़ोन के एम आर टम्टा, जगदीश के परिवार से बहन गंगा, भाई पृथ्वीपाल, पनुवाद्योखन के बीटीसी मेंबर खीमानंद, एड. भोलेशंकर, आदि ने संबोधित किया। 

प्रदर्शन में प्रगतिशील महिला एकता मंच, वन ग्राम संघर्ष समिति, उत्तराखंड छात्र संगठन, युवा एकता मंच, भीम आर्मी समेत अनेक संगठन शामिल रहे।

इस दौरान नरीराम स्नेही, रवि, नवीन तिवारी, नारायण राम, किरन आर्य, बीरबल, ललित उप्रेती, सरस्वती जोशी, चिंताराम, चंद्रप्रकाश चौधरी, बसंत चौधरी, भगीरथ चौधरी, बीडी नैनवाल, आनंदी वर्मा, श्यामलाल, गिरीश आर्य, गोपाल असनौड़ा, धना देवी, पुष्पा देवी, गंगा, भावना देवी, शारदा देवी, बसंती देवी सहित कई लोग शामिल रहे।

कार्यक्रम का संचालन उपपा के केंद्रीय उपाध्यक्ष प्रभात ध्यानी ने किया।

कार्यक्रम में तय किया गया कि इसी माह जल्द ही अल्मोड़ा में प्रदर्शन किया जाएगा।

%d bloggers like this: