मिस्र की राजधानी काहिरा के कॉप्टिक चर्च में भयावह आग; 41 की मौत, 14 घायल

स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजे आग लगने की सूचना मिली थी। शुरुआती जांच में पता चला है कि इमारत की दूसरी मंजिल में एक एयर कंडीशनर में आग लगने से हादसा हुआ।

मिस्र (Egypt) की राजधानी काहिरा के कॉप्टिक चर्च में आज रविवार को आग लगने की भयावह घटना सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कॉप्टिक चर्च अग्निकांड में 41 लोगों की मौत हो गई है। 14 लोग इस घटना में घायल हुए हैं। वहां के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि आग इम्बाबा के घनी आबादी वाले इलाके अबू सेफीन चर्च में लगी।

जनज्वार की खबर के अनुसार इम्बाबा फायर विभाग ने घंटों मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि 55 घायलों को अस्तपाल में भर्ती कराया गया है।

जबकि परदा फास के अनुसार समाचार एजेंसी एएफपी ने चर्च के अधिकारियों के हवाले से जानकारी दी है कि इस हादसे में 41 लोगों की मौत हो चुकी है।

मिस्र के कॉप्टिक चर्च की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इम्बाबा के मजदूर वर्ग के अबू सेफीन चर्च में आग लगने के कारणों का तत्काल पता नहीं चल पाया है। पुलिस के एक बयान के मुताबिक प्रारंभिक जांच में बिजली के शॉर्ट-सर्किट से आंग लगने की संभावना है।

मिस्र के गृह मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा है कि स्थानीय समयानुसार सुबह नौ बजे आग लगने की सूचना मिली थी। शुरुआती जांच में पता चला है कि इमारत की दूसरी मंजिल में एक एयर कंडीशनर में आग लगी, जिसकी वजह से ये हादसा हुआ। वहीं पुलिस और अग्निशामकों की देखरेख करने वाले मंत्रालय ने आग के लिए बिजली के शॉर्ट-सर्किट को जिम्मेदार ठहराया है।

मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फत्ताह अल सीसी ने अपने फेसबुक पेज पर घोषणा की है कि कैरो अग्निकांड में फंसे लोगों को हर संभव राहत देने का आदेश दिया है। इम्बाबा के अधिकारियों से कहा कि वो इस घटना के पीड़ितों और घायलों के लिए सभी उपाय सुनिश्चित करें।

ज्ञात हो कि मिस्र में कॉप्ट मध्य पूर्व में सबसे ज्यादा ईसाई समुदाय के लोग रहते हैं। पिछले वर्षों में मिस्र को कई घातक आग्निकांड का सामना करना पड़ा है। मार्च 2021 में भी काहिरा के पूर्वी उपनगर में एक कपड़ा कारखाने में आग लगने से कम से कम 20 लोगों की मौत हो गई थी।

भूली-बिसरी ख़बरे