रेलवे निजीकरण का विरोध: “रेल बचाओ-देश बचाओ” अभियान के तहत रैली

पूँजीपतियों के हित में रेलवे का निजीकरण घातक है और यह आम आदमी के हितों के विरुद्ध है। सरकार निजीकरण के मौद्रिकरण जैसे नए-नए नाम रखकर जनता को भ्रमित कर रही है।

जयपुर।ऑल इंडिया रेलवेमैन्स फेडरेशन (AIRF) की कार्यकारिणी बैठक में लिए गए निर्णय के अनुसार “रेल बचाओ-देश बचाओ” अभियान के तहत पूरे देश में रेल कर्मियों ने प्रतिरोध किया और निजीकरण को रद्द कराने की माँग बुलंद की।

जयपुर। नॉर्थ वेस्टर्न रेलवे एम्पलॉईज यूनियन द्वारा कार्यक्रम में देश के अमर शहीदों को याद करते हुए, पूरे उत्तर पश्चिम रेलवे पर भारतीय रेल के निजीकरण के विरोध में प्रदर्शन, रैली और धरना दिया गया।

इस दौरान जयपुर मण्डल द्वारा जयपुर स्टेशन पर यूनियन कार्यालय से जयपुर रेलवे स्टेशन परिसर व प्लेटफॉर्म से रैली निकालते हुए प्रदर्शन किया गया। इस दौरान भारत सरकार रेलों के निजीकरण की जिद छोड़ो का नारा लगाया गया।

सभा को संबोधित करते हुए महामंत्री मुकेश माथुर ने निजीकरण के विरुद्ध सरकार की मंशा एवं निजीकरण को आम आदमी के हितों के विरुद्ध बताया। उन्होंने कहा कि सरकार निजीकरण के नए-नए नाम जैसे मौद्रिकरण आदि रखकर जनता को भ्रमित कर रही है।

मण्डल मंत्री मुकेश चतुर्वेदी ने कहा कि देश के 400 स्टेशनों को बेचने का काम करके साथ-साथ उन पर करोड़ों रुपये जो कि देश की जनता का पैसा है, सौंदर्यीकरण के नाम पर बर्बाद किया जा रहा है।

कार्यकारी अध्यक्ष विनीत मान ने कहा कि सरकार की रेलों के निजीकरण की मंशा को यूनियन सफल नहीं होने देगी। अंत में मण्डल अध्यक्ष के एस अहलावत ने आम जनता को जागरूक करते हुए, बड़ी संख्या में प्रदर्शन में भाग लेने आए साथियों का धन्यवाद दिया।

रेलवे के निजीकरण के खिलाफ स्टेशनों पर हो रहा प्रदर्शन

कोटा। गंगापुरसिटी में यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव के नेतृत्व में रैली निकालकर विरोध प्रदर्शन किया गया। वहीं कोटा में जोनल कोषाध्यक्ष इरशाद खान के नेतृत्व में स्टेशन परिसर के बाहर सर्कुलेटिंग एरिया में आम सभा आयोजित हुई। जिसमें सभी विभागों के रेलकर्मचारियों ने जोरदार नारेबाजी के साथ रेल निजीकरण की मुखाल्फत की।

अलीगढ़ में प्रांतीय नेतृत्व के आह्वान पर मंगलवार को नार्थ सेंट्रल रेलवे मेंस यूनियन (एनसीआरएमयू) ने केंद्र सरकार की निजीकरण की नीतियों के खिलाफ गेट मीटिंग की और धरना-प्रदर्शन किया।
प्रयागराज मंडल के महामंत्री कामरेड आरडी यादव, मंडल उपाध्यक्ष कामरेड जेपी वार्ष्णेय के नेतृत्व में शाखा अलीगढ़ द्वारा भोजनावकाश के समय धरना-प्रदर्शन किया गया। रेलवे कर्मियों ने सरकार विरोधी नारेबाजी की। संचालन शाखा मंत्री कामरेड मृत्युजंय कुमार ने किया।

गोंडा। रेलवे स्टेशन के पूछताछ दफ्तर का निजीकरण करने के विरोध में मंगलवार को एनई रेलवे मजदूर यूनियन के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। इसका नेतृत्व यूनियन के केंद्रीय संगठन मंत्री राम नगीना ने किया। कहा कि रेल प्रशासन जब तक रोक नहीं लगाती है, तब तक विरोध जारी रहेगा।


कहा कि पूर्वोत्तर रेलवे के लखनऊ डिवीजन के गोंडा रेलवे स्टेशन समेत सात रेलवे स्टेशन के पूछताछ कार्यालय को निजी हाथों में दे दिया है। यहां के रेल कर्मचारियों को हटा दिया गया है। यूनियन के सैकड़ों पदाधिकारियों ने पूछताछ कार्यालय के सामने धरना प्रदर्शन किया। रेलवे प्रशासन को मजदूर विरोधी बताया है।

रोहतास। एआईआरएफ के आह्वान पर रेल पथ कार्यालय डेहरी में रेल बचाओ-देश बचाओ अभियान कार्यक्रम का आयोजन किया गया। पूर्व मध्य रेलवे कर्मचारी संघ के उपाध्यक्ष वीरेंद्र पासवान ने कहा कि भारतीय रेलवे को निजीकरण, निगमीकरण और मुद्रीकरण से बचाने के लिए जन आंदोलन की जरूरत है। जब सरकार मनमानी पर तुली हुई है तो ऐसे में हमें लोगों को सहभागी बनाकर एक बड़े संघर्ष की ओर बढ़ना होगा। रेलवे के निजीकरण का सबसे ज्यादा असर आम जनता पर पड़ेगा।

रुड़की। नॉर्दर्न रेलवे मैन्स यूनियन (शाखा लक्सर) की ओर से रुड़की रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन कर रेल बचाओ देश बचाओ के नारे लगाए गए।