दिल्ली: 70 साल से जिन घरों में रह रहे, वहां बुलडोजर चलाने का नोटिस जारी

ये लोग पिछले 70 साल से यहां रह रहे हैं और हाउस टैक्स चुका चुके हैं और इनके पास मकान नंबर भी हैं, ये बिजली और पानी के बिल का भुगतान करते हैं।

मानसरोवर पार्क मेट्रो स्टेशन से लगभग एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित कस्तूरबा नगर है। 2 अगस्त को DDA ने कॉलोनी के चारों ओर नोटिस चिपका दिया (अंग्रेजी में) यह घोषणा करते हुए कि कॉलोनी के कुछ हिस्सों को 18 अगस्त तक ध्वस्त कर दिया जाएगा।

यह सब सरकार इसलिये कर रही है ताकि मुख्य सड़क को दूसरे शहर की आंतरिक सड़क से जोड़ने के लिए एक सड़क बनाई जा सके।

ये लोग पिछले 70 साल से यहां रह रहे हैं और हाउस टैक्स चुका चुके हैं और इनके पास मकान नंबर भी हैं, ये बिजली और पानी के बिल का भुगतान करते हैं।

सड़क को शुरू में भूमि के एक छोटे से टुकड़े के माध्यम से बनाया जाना था जिसे पार्क के रूप में लेबल किया गया है, लेकिन वास्तव में पास के शिवम एन्क्लेव द्वारा पार्किंग के रूप में उपयोग किया जाता है।

DDA ने जमीन की दीवार गिराना शुरू कर दिया था, लेकिन कालोनी के लोगों को कोर्ट से स्टे ऑर्डर मिल गया है।

स्थानीय विधायक की ओर से अर्ध-स्थायी घरों और कॉलोनी को ध्वस्त करने का स्पष्ट राजनीतिक दबाव रहा है, इसका कारण संपत्ति का मूल्य और जाति वर्ग की उंच नीच को वे समाज में बनाए रखना चाहते हैं।

आदेश मानसून के दौरान दिया गया था और कानूनी रूप से या किसी अन्य तरीके से कार्य करने के लिए पर्याप्त समय नहीं दिया गया था।

यह भारत के आधुनिक विकासशील शहरों में वर्ग जाति और सामंती प्रवृत्तियों का एक स्पष्ट मामला है। एक ऐसी जगह जहां घरों को गिराने की जरूरत नहीं है, DDAएक पूरी मजदूर वर्ग की कॉलोनी को ध्वस्त कर रहा है और उन लोगों को विस्थापित कर रहा है जो लगभग 70 वर्षों से वहां रह रहे हैं और चमकदार फ्लैट निवासियों की तुलना में अधिक समय से इलाके में रह रहे हैं जो कि आर्थिक और सामाजिक रूप से ऊपर की श्रेणी में हैं।

वर्कर्स यूनिटी से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे