7 से 14 अगस्त तक पूरे देश में जय किसान, जय जवान सम्मेलन आयोजित करें -किसान सभा

हमारे देश के पूर्व सैनिक ‘वन रैंक, वन पेंशन’ योजना के लिए लड़ रहे थे, मिला ‘अग्निपथ’ के तहत ‘नो रैंक, नो पेंशन’ योजना, जो किसान विरोधी, युवा विरोधी और राष्ट्र विरोधी कार्यक्रम है।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर अखिल भारतीय किसान सभा ने ‘अग्निपथ’ योजना की वास्तविक प्रकृति को उजागर करने के लिए किसानों, छात्रों-नौजवानों तथा पूर्व सैनिकों के संगठनों के साथ मिलकर पूरे देश में ‘जय किसान, जय जवान’ सम्मेलन आयोजित करने का निर्णय लिया है। ये सम्मेलन 7 से 14 अगस्त तक आयोजित किये जायेंगे।

यह जानकारी अखिल भारतीय किसान सभा के महासचिव व पूर्व सांसद हन्नान मोल्ला ने दी। उन्होंने इस योजना को ‘किसान विरोधी, युवा विरोधी और राष्ट्र विरोधी कार्यक्रम’ करार देते हुए इसे वापस लेने की मांग की है। उन्होंने बताया कि इन सम्मेलनों के दौरान ही इस योजना के खिलाफ पूरे देश में सेमिनारों, रैलियों तथा धरनों का आयोजन भी किया जाएगा।

इस योजना को ‘नो रैंक, नो पेंशन’ योजना बताते हुए उन्होंने कहा कि हमारे देश के पूर्व सैनिक ‘वन रैंक, वन पेंशन’ योजना के लिए लड़ रहे थे, यह योजना उनके साथ विश्वासघात है। चूंकि अधिकांश जवान किसान परिवारों से आते हैं, इसलिए इन परिवारों के लाखों नौजवान नौकरी से वंचित हो जाएंगे। शॉर्ट टर्म अग्निवीर को 4 साल बाद नौकरी से हटा दिया जाएगा। तब वे कहां जाएंगे? अतः इस योजना से सेना की भर्ती में कमी ही आएगी।

किसान सभा नेता हन्नान मोल्ला ने कहा कि मोदी सरकार की इस राष्ट्रविरोधी योजना से लाखों पूर्व सैनिक और छात्र-युवा नाराज हैं। इसलिए इस खतरनाक योजना को बंद करना चाहिए। किसान सभा इसके लिए आम जनता के सभी तबकों को एकजुट करेगी और उन्हें संघर्ष के मैदान में उतारेगी।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: