छत्तीसगढ़: हड़ताल का वेतन काटने का आदेश फूंका; 22 सितंबर से फिर हड़ताल

5 दिन सूचना देकर हड़ताल हुई। सरकार ने वेतन कटौती का आदेश जारी कर कर्मचारियों के जले पर नमक छिड़का है। 15 अगस्त तक माँगें नहीं मानी तो 22 से अनिश्चितकालीन हड़ताल।

महंगाई भत्ता व गृह भाड़ा भत्ता की मांग को लेकर सरकारी कर्मचारियों ने 5 दिन हड़ताल की। कलमबंद आंदोलन शुरू होने के पहले और बाद में शनिवार, रविवार पड़ने से 9 दिन तक दफ्तरों में काम ठप रहा। सोमवार को सभी कर्मचारी काम पर लौट आए हैं, लेकिन 20 दिन बाद 22 अगस्त से अनिश्चितकाल के लिए आंदोलन करेंगे। इसकी मुख्य वजह सरकार द्वारा हड़ताल के 5 दिनों का वेतन कटौती की आदेश जारी करना है।

यह आदेश 29 जुलाई को प्रदर्शन समाप्त होने के कुछ घंटे बाद उप सचिव मेरी खेस्स ने जारी किया। इस आदेश से कर्मचारी संगठन बौखला गए हैं। इसलिए एक बार फिर हड़ताल करने का ऐलान कर दिया है। अधिकारी-कर्मचारी फेडरेशन के संयोजक मुकेश पांडेय ने दावा कि 22 से हड़ताल पर जाने की सूचना मुख्य सचिव अमिताभ जैन को प्रदेश पदाधिकारियों ने दे दी है। सरकारी कर्मचारियों को 7वें वेतनमान के तहत ना महंगाई भत्ता मिल रहा है और ना ही भाड़ा भत्ता। हर महीने 4 से 14000 का नुकसान होने का दावा है।

इस तरह कर रहे चरणबद्ध आंदोलन

29 जून- जिला स्तरीय प्रदर्शन गांधी मैदान में किया।

25 से 28 जुलाई- ब्लाॅक स्तर पर प्रदर्शन हुआ।

29 जुलाई- जिला स्तर पर आक्रोश रैली निकाली।

22 अगस्त से अनिश्चितकाल के लिए हड़ताल करने का ऐलान किया है। प्रदेश पदाधिकारियों ने मुख्य सचिव अमिताभ जैन को इसकी सूचना दी है।

कार्यालयों में रही लोगों की खूब भीड़

इधर 9 दिन बाद सरकारी दफ्तरों का ताला खुलने से लोग जरूरी काम कराने कलेक्टोरेट, तहसील कार्यालय, नगर निगम, नपं सहित प्रमुख कार्यालय पहुंचते रहे। सबसे ज्यादा भीड़ कलेक्टोरेट में रही।

अधिकारी-कर्मचारी फेडरेशन के जिला संयोजक मुकेश पांडेय ने कहा कि सरकार हमारी स्वतंत्रता का अधिकार छीन रही है। 25 से 29 जुलाई तक 5 दिन सूचना देकर हड़ताल पर थे, लेकिन सरकार ने वेतन कटौती का आदेश जारी कर कर्मचारियों के जले पर नमक छिड़कने का काम किया है। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त तक सरकार हमारी मांगों को पूरा नहीं करती तो 22 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे। सोमवार को सरकार के आदेश की प्रति कलेक्टोरेट में जलाई।

विरोध प्रदर्शन के दौरान खुमाश सिंह ठाकुर, दीपचंद भारती, ममता खालसा, गौरी गुप्ता, चित्ररेखा यादव सहित अन्य कर्मचारी मौजूद थे। इधर टीचर्स एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष भूषण चंद्राकर ने कहा कि 22 से शुरू होने वाले आंदोलन में छत्तीसगढ़ टीचर्स एसोसिएशन, शालेय शिक्षक संघ एवं नवीन शिक्षक संघ शामिल नहीं होंगे। 31 जुलाई को काम पर आ गए हैं।

दैनिक भास्कर से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: