जयपुर: कृष्णा पेपर मिल में हुक टूटने से पेपर रोल महिला श्रमिकों पर गिरा, 2 महिलाओं की मौत

दोनों कृष्णा पेपर मिल में 7000 प्रति माह की पगार में मजदूरी करती थीं, जिनसे भारी पेपर रोल उठवाए जाते थे। फैक्ट्री में लगभग 50 महिला मजदूर बगैर सुरक्षा काम करती हैं।

जयपुर जिला में कोटपूतली के केशवाना फैक्ट्री एरिया में शुक्रवार को बड़ा हादसा हो गया। यहां पनियाला थाना इलाके में कृष्णा पेपर मिल में सुबह 9.30 बजे मशीन का हुक टूटने से भारी-भरकम पेपर रोल दो महिला मजदूरों पर आ गिरा। पेपर रोल के नीचे दबने से दोनों महिलाओं की मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद मजदूरों ने काम बंद कर हंगामा कर दिया। मजदूरों ने फैक्ट्री प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

घटना की सूचना मिलने पर पनियाला थाना पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों महिलाओं के शव को बीडीएम अस्पताल की मॉर्च्यूरी में रखवाए। घटना के बाद गुस्साए परिजनों ने मुआवजे की मांग की। शव का पोस्टमार्टम करवाने से परिजनों ने इंकार कर दिया है।

जानकारी के अनुसार प्रेम देवी (50) कोटपूतली के बड़ाबास मोहल्ले की रहने वाली थीं। जबकि सुनीता (35) मोहल्ला नागाजी की रहने वाली थी। दोनों कृष्णा पेपर मिल में 7000 प्रति माह की पगार में मजदूरी करती थीं। जानकारी के मुताबित फैक्ट्री में लगभग 50 महिला मजदूर काम करती हैं। महिलाओं से भारी पेपर रोल उठवाए जाते थे। इसकी शिकायत महिलाओं ने कभी मैनेजमेंट से नहीं की लेकिन घर आकर परिजनों को बताती थीं।

शुक्रवार को पेपर रोल उठाते समय मशीन का हुक टूट गया। रोल लुढ़कता हुआ सुनीता और प्रेम देवी पर आ गिरा। दोनों पेपर रोल के नीचे दब गईं। मिल में काम कर रहे अन्य मजदूरों ने उन्हें निकालने की भरसक कोशिश की लेकिन जब तक वे महिलाओं को बाहर निकालते तब तक दोनों ने दम तोड़ दिया। सूचना पर पनियाला पुलिस मौके पर पहुंची और घटना की जानकारी ली। फिलहाल पेपर फैक्ट्री से प्रबंधन के लोग फरार हो गए। फैक्ट्री मैनेजमेंट की ओर से कोई बयान नहीं आया।

मृतक महिला मजदूर सुनीता के 6 बच्चे हैं, 4 बेटियां व 2 बेटे हैं। सबसे छोटा बेटा 3 साल का है। पति फेरी लगाने का काम करता है। प्रेम देवी के पति की 16 साल पहले मौत हो चुकी थी। इनके 2 बेटे और 2 बेटियां हैं। सबसे बड़े बेटे की मौत हो गई थी। एक बेटे दो बेटियों की शादी हो चुकी है।

घटना से गुस्साए परिजनों व ग्रामीणों ने फैक्ट्री प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए धरना शुरू कर दिया। शव का पोस्टमार्टम कराने से इंकार कर दिया। साथ ही पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा दिलाने व फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

पेपर मिल हादसे के बाद बीडीएम अस्पताल की मॉर्च्यूरी के बाहर महिलाओं के परिजनों ने हंगामा कर दिया। परिजन फैक्ट्री प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई करने और मुआवजे की मांग पर अड़े रहे।

हादसे के बाद सूचना मिलने पर तहसीलदार सूर्यकांत शर्मा व पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों से समझाइश की। ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। पटियाला थानाधिकारी हितेश शर्मा ने कहा कि पनियाला रीको एरिया की कृष्णा पेपर मिल में हादसा हुआ है। पेपर के बंडल गिरने से दो महिला मजदूरों के दबने की सूचना मिली थी। दोनों को राजकीय बीडीएम अस्पताल में पहुंचाया जहां डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया। संभवतः पेपर गीले होने के कारण दुर्घटना हुई है। मामले की जांच कर रहे हैं। फिलहाल, पीड़ित पक्ष व आरोपी पक्ष के बीच सहमति बनाने के प्रयास कर रहे हैं।

दैनिक भास्कर से साभार