जयपुर: पेयजल के निकले गए श्रमिकों ने महिलाओं संग एसडीएम का किया घेराव, आमरण अनशन

विगत 15 वर्षों से कार्यरत श्रमिकों को वर्तमान कार्यकारी संस्था जीसीकेसी ने हटा कर बेरोजगार कर दिया है। इससे श्रमिकों के समक्ष जीवन यापन का संकट हो गया है।

टोडारायसिंह बीसलपुर जल प्रदाय परियोजना कर्मचारी संघ के श्रमिकों ने अपनी मांगों को लेकर परिवार की महिलाओं के साथ तहसील अध्यक्ष खेमराज माली के साथ में रैली निकालकर तथा एसडीएम कार्यालय पर विरोध प्रदर्शन किया। तत्पश्चात एसडीएम रूबी अंसार को ज्ञापन सौंप कर तीन घंटे तक एसडीएम कार्यालय परिसर पर धरना दिया। वहीं अध्यक्ष खेमराज माली ने एसडीएम कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन आमरण शुरू कर दिया। बीसलपुर जल प्रदाय परियोजना कर्मचारी संघ के श्रमिक अपने परिवार की महिलाओं व बच्चें के साथ हाथों में नारे लिखित तख्तियां लेकर सीनियर स्कूल के सामने एकत्र हुए। वहां से नारेबाजी करते हुए उपखण्ड कार्यालय पर पहुंचे। जहां पर जेसीकेसी कंपनी के विरोध में नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया।

तत्पश्चात एसडीएम को 7 सूत्रीय मांग पत्र सौंप कर एसडीएम कार्यालय परिसर में धरना देकर बैठ गए। जहां पर श्रमिक संघ के तहसील अध्यक्ष खेमराज माली ने बताया कि बीसलपुर जयपुर पेयजल परियोजना सूरजपुरा पर विगत 15 वर्षों से कार्यरत श्रमिकों को वर्तमान कार्यकारी संस्था जीसीकेसी ने हटा कर बेरोजगार कर दिया है। इससे श्रमिकों के समक्ष जीवन यापन का संकट हो गया है। पिछले 10 माह से श्रमिक संघ ने शासन, प्रशासन, श्रम विभाग को ज्ञापन, धरना, प्रदर्शन, आंदोलन व व्यक्तिगत रूप से मुख्यमंत्री व पीएचडी मंत्री को अवगत करवाया है। इस संबंध में पूर्व में एसडीएम कार्यालय में हुई बैठक की कार्यवाही की भी पालना नही हुई है।

मजदूरों का शोषण किया जा रहा है। ऐसे में श्रमिकों नियुक्ति दिला कर जीवन बचाया जाए। इस पर एसडीएम ने उन्हें कहा कि वे कंपनी के संचालक को बुलवा कर इस संबंध में बात कर समस्या को रखेगी। लेकिन महिलाओं ने एक नहीं सुनी ओर कहा कि ऐसे आश्वासन कई बार मिल चुके है। जब तक जेसीकेसी कंपनी उनको नियुक्ति नहीं देती है तब तक वे यहीं पर धरना देकर बैठेगी। और महिलाएं अपने बच्चों के साथ सुबह 11 बजे धरना देकर बैठी गई। जो कि दोपहर 2 बजे तक जारी रहा।

दैनिक भास्कर से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: