अग्निपथ सेना भर्ती के खिलाफ भारत बंद का व्यापक असर; सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर

सोमवार को 612 ट्रेनें रद्द हुईं, दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेसवे पर वाहनों की लंबी कतारें लगीं। वहीं सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में अग्निपथ को संवैधानिक प्रावधानों के खिलाफ बताया गया है।

विभिन्न ससंगठनों व अभ्यर्थियों द्वारा किए गए आह्वान पर सोमवार को देशभर में अग्निपथ के विरोध में भारत बंद का जोरदार असर दिखा। देश के विभिन्न हिस्सों में कहीं व्यापक तो कहीं माध्यम असर रहा। सरकार को ट्रेन संचालन बंद करना पड़ा, तो कई राज्यों में स्कूल-कॉलेज बंद हुए।

बिहार समेत देश के कई राज्यो में बंद का व्यापक असर भी देखा गया तो वहीं देश भर के अलग-अलग रेलवे स्टेशनों में पुलिस बल की पर्याप्त मौजूदगी थी। दिल्ली की सड़कें भी विरोध प्रदर्शन के कारण प्रभावित रहीं। जंतर-मंतर से लेकर सेंट्रल दिल्ली की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन हुआ। जम्मू कश्मीर से लेकर उत्तरप्रदेश, बिहार, झारखंड, उत्तराखंड, पंजाब, तमिलनाडु, केरल तक प्रदर्शन हुए।

उल्लेखनीय है कि केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाई गई संविदा आधारित फिक्स्ड टर्म सैन्यभर्ती योजना ‘अग्निपथ’ को वापस लेने की मांग को लेकर बीते 14 मई से जारी प्रदर्शनों के बीच सोमवार को राष्ट्रव्यापी भारत बंद का आह्वान किया था।

17 जून को सेना भर्ती कार्मिक मोर्चा, आईएनएयूएस, आइसा, इंकलाबी नौजवान सभा आदि सहित कई अन्य लोगों ने केंद्र सरकार को अग्निपथ योजना वापस लेने का 72 घंटे का अल्टीमेटम दिया है।

protest

भारत बंद के मद्देनजर सोमवार को झारखंड में पांच हजार से अधिक सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया और राज्य भर में स्कूल बंद रहे।

भारत बंद की वजह से पटना रेलवे स्टेशन, मुंबई के शिवाजी रेलवे स्टेशन, अमृतसर रेलवे स्टेशन सहित ज्यादातर रेलवे स्टेशनों पर सन्नाटा पसार रहा और स्टेशनों पर रेलगाड़ियां खड़ी रहीं। बिहार के 20 जिलों में आज इंटरनेट बंद रहा।

घबड़ाई सरकार ने 35 व्हाट्सऐप समूहों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जो कथित तौर पर फर्जी खबरें फैला रहे थे।

Bharat Bandh Photos: अग्निपथ योजना के विरोध में 'भारत बंद', रेलवे स्टेशनों पर चाक चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था

देहरादून में सैकड़ों युवाओं ने सचिवालय कूच किया। वहीं, चमोली जिले के गोपेश्वर में एक कार्यक्रम में जा रहे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को काले झंडे दिखाए गए। देहरादून में कहीं मशाल जुलूस निकला तो कहीं हाथ में काली पट्टी बांधकर मौन जुलूस निकाला।

योजना के विरोध में मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे पर युवाओं के जाम लगाने से हाईवे के दोनों तरफ एक दर्जन से अधिक नान स्टाप बसें जाम में फंसी रहीं।

विभिन्न दलों व संगठनों के सदस्यों ने सोमवार को जम्मू में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान राजमार्ग को बाधित करने पर पुलिस को कई प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया।

Bharat Bandh Photos: अग्निपथ योजना के विरोध में 'भारत बंद', रेलवे स्टेशनों पर चाक चौबंद रही सुरक्षा व्यवस्था

चेन्नई में भारत बंद के समर्थन में प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया।

सोमवार को भारत बंद के आह्वान के कारण भारतीय रेलवे ने सोमवार को 612 ट्रेनों को रद्द करना पड़ा। रेलवे ने एक बयान में कहा कि प्रभावित 612 ट्रेनों में से 223 मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों और 379 यात्री ट्रेनों सहित 602 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है। वहीं, चार मेल-एक्सप्रेस ट्रेनें और छह यात्री ट्रेनें आंशिक रूप से रद्द कर दी गईं।

सुरक्षा बलों द्वारा की जा रही जांच के कारण दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेसवे पर यातायात बाधित हुआ। सरहौल बॉर्डर के पास एक्सप्रेस-वे पर सोमवार को गाड़ियों की लंबी कतारें दिखीं, यह जाम सोमवार सुबह साढ़े आठ बजे लगना शुरू हुआ और धीरे-धीरे बढ़ता चला गया।

हरियाणा में उम्मीदवारों ने सड़कों को अवरुद्ध कर दिया और इस योजना को वापस लेने की मांग की। फतेहाबाद में युवाओं के एक समूह ने लाल बत्ती चौक को अवरुद्ध कर दिया, जबकि कई अन्य ने रोहतक जिले में सड़कों पर विरोध प्रदर्शन किया।

किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए हरियाणा के अंबाला, रेवाड़ी और सोनीपत और पंजाब के लुधियाना, जालंधर और अमृतसर सहित रेलवे स्टेशनों पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया था।

पंजाब के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) ने रविवार को राज्य के सभी पुलिस आयुक्तों और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों को भेजे पत्र में कहा था कि केंद्र सरकार के विभागों के कार्यालयों और प्रतिष्ठानों को कड़ी सुरक्षा की जरूरत है।

केरल पुलिस ने कहा है कि भारत बंद के दौरान हिंसा या सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वाले किसी भी व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए उसका पूरा बल ड्यूटी रहा।

उत्तर प्रदेश के गौतम बौद्ध नगर नोएडा में प्रशासन ने दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 लागू कर दी थी। ग्रेटर नोएडा में यमुना एक्सप्रेस वे के जेवर टोल प्लाजा पर शुक्रवार को हुए कथित हिंसक प्रदर्शन के बहाने अब तक 225 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है और 15 को गिरफ्तार किया गया है।

अग्निपथ योजना के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका

केंद्र की अग्निपथ योजना के खिलाफ सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है। इसमें आरोप लगाया गया है कि सरकार ने सशस्त्र बलों के लिए वर्षों पुरानी चयन प्रक्रिया को रद्द कर दिया है। यह संवैधानिक प्रावधानों के खिलाफ है। याचिका में यह भी कहा गया है कि इसके लिए संसद की मंजूरी भी नहीं ली गई है।

24 जून को अग्निवीर भर्ती की शुरुआत, किसानों द्वारा राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस

संयुक्त किसान मोर्चा ने सेना में भर्ती की नई अग्निपथ योजना के खिलाफ युवाओं के राष्ट्रव्यापी विरोध को अपना समर्थन घोषित किया है। विरोध प्रदर्शन को शांतिपूर्ण बनाए रखने की अपील करते हुए एसकेएम ने इस योजना को जवान विरोधी, किसान विरोधी और राष्ट्र विरोधी बताया है।

संयुक्त किसान मोर्चा ने अग्निवीर भर्ती की शुरुआत के दिन यानी शुक्रवार 24 जून को ही इस योजना के विरुद्ध राष्ट्रव्यापी विरोध दिवस मनाने का फैसला किया है। उस दिन “जय जवान जय किसान” के नारे के साथ सभी जिला, तहसील या ब्लॉक मुख्यालय पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन आयोजित कर सेना के सर्वोच्च कमांडर भारत के राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन दिया जाएगा।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: