लखीमपुर हत्याकांड: आशीष के साथियों की जमानत भी खारिज; कोर्ट की केंद्रीय मंत्री पर तीखी टिप्पणी

फ़ाइल फ़ोटो

हाईकोर्ट ने कहा कि केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र यदि घटना से पहले भड़काऊ भाषण न देते तो घटना ना होती और जघन्य हत्याकांड टल सकता था। इसके बाद मंत्री को पद पर रहने का हक नहीं।

संयुक्त किसान मोर्चा इलाहाबाद उच्च न्यायालय द्वारा लखीमपुर खीरी हत्याकांड के प्रमुख आरोपी और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा के सहयोगियों की जमानत की अर्जी को खारिज करने का स्वागत किया है। कोर्ट के आदेश में गृह राज्य मंत्री के आचरण पर की गई टिप्पणी के बाद अब अजय मिश्र टेनी के मंत्री पद पर बने रहने का कोई औचित्य नहीं रहा है। इस आदेश से यह आशा बंधती ऐसा है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा आशीष मिश्र की जमानत रद्द करने के बाद से न्याय का चक्र सही दिशा में घूमने लगा है।

आज (सोमवार को) इलाहाबाद उच्च न्यायालय खण्ड पीठ लखनऊ में जस्टिस दिनेश कुमार सिंह द्वारा अंकित दास, शिशुपाल, सुमित जायसवाल तथा लवकुश की जमानत की अर्जी को खारिज कर दिया गया है। अपने आदेश में उच्च न्यायालय ने इन अभियुक्तों के द्वारा दी गई तमाम दलीलों को खारिज करते हुए आरोपियों के राजनैतिक रसूख को रेखांकित किया है और कहा है कि ऐसे में इन्हें जमानत मिलने पर साक्ष्य नष्ट होने तथा गवाहों पर असर पड़ने की आशंका है।

यही नहीं, न्यायमूर्ति दिनेश कुमार सिंह ने अपने आदेश में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के आचरण पर तीखी टिप्पणी करते हुए कहा है कि यदि वे इस घटना से पहले भड़काऊ भाषण न देते तो यह घटना घटित ना होती और यह जघन्य हत्याकांड टल सकता था।

यहां गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर बनी एसआईटी ने भी इस मामले में व्यापक षड्यंत्र की बात मानते हुए इसी दिशा में इशारा किया था। संयुक्त किसान मोर्चा पहले दिन से इस नरसंहार के सूत्रधार के रूप में अजय मिश्र टेनी को नामजद करता रहा है। अब माननीय उच्च न्यायालय की इन टिप्पणियों के बाद तो मंत्री टेनी के मंत्रिमंडल में बने रहने का कोई बहाना नहीं बचा है।

संयुक्त किसान मोर्चा अपनी लीगल टीम के अधिवक्ता शशांक सिंह और अमान ख्वाजा को धन्यवाद देते हुए यह उम्मीद करता है की आशीष मिश्रा की जमानत की याचिका पर पुनर्विचार करते वक्त भी कोर्ट इन सब तथ्यों का संज्ञान लेगा। उस केस की सुनवाई के लिए आज उच्च न्यायालय ने 25 मई की तारीख तय की है।

संयुक्त किसान मोर्चा की प्रेस विज्ञप्ति (9 मई, 2022)

जारीकर्ता – डॉ दर्शन पाल, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: