जमशेदपुर: टाटा मोटर्स में चार वर्ष के लिए ₹14000 का समझौता; 151 श्रमिक होंगे स्थाई

₹14000 वेतन बृद्धि के अलावा परिवर्तनशील मद में ₹3000 की बढ़ोतरी होगी व कुछ सुविधाएं भी बढ़ेंगी। हालांकि चार वर्ष और कम राशि के समझौते से श्रमिकों में नाराजगी भी है।

जमशेदपुर। टाटा मोटर्स लिमिटेड, जमशेदपुर के प्रबंधन और टाटा मोटर्स वर्कर्स यूनियन के बीच शनिवार को लांग टर्म सेटलमेंट (एलटीएस) के तहत 4 वर्षों के लिए (अप्रैल 2022 से 31 मार्च 2026) ₹14000 वेतन समझौता संपन्न हो गया। इसके अलावा परिवर्तनशील मद (एमओपी, सेफ्टी व क्वालिटी) में ₹3000 की बढ़ोतरी होगी। इसी के साथ 151 बाई-6 श्रमिक स्थायी होंगे।

यह समझौता स्थाई श्रमिकों के लिए है। जैसा कि परंपरा बन गई है, अस्थाई-ठेका मज़दूरों को इस समझौते से कोई लाभ नहीं मिला है।

समझौते के तहत स्थाई श्रमिकों के वेतन में हुई बढ़ोतरी का प्रथम वर्ष 65% दूसरे वर्ष 15% जबकि तीसरे व चौथे वर्ष में 10-10% की बढ़ोतरी होगी। बेसिक में ₹6618 की बढ़ोतरी होगी जबकि पिछले बार ₹4400 की बृद्धि हुई थी। कंपनी प्रबंधन समय से समझौता होने पर बोनस के तौर पर स्थाई श्रमिकों को एकमुश्त ₹20000 देगी।

वार्षिक इंक्रीमेंट की दर में भी 65 रुपये की बढ़ोतरी की गई है। वर्तमान में कर्मचारियों को 195 से 260 रुपये इंक्रीमेंट मिलता है। परिवर्तनशील भत्ता (वेरिएबल एलाउंस) में 3000 रुपये बढ़ोतरी का लाभ कर्मचारियों को पहले वर्ष से ही मिलना शुरू हो जाएगा।

इस समझौते के तहत ई-1 से ई-9 ग्रेड स्ट्रक्चर को ई-11 तक बढ़ाया गया है। इसके अलावा मेडिकल रेफरल में चार लाख की राशि को बढ़ाकर पांच लाख किया गया है। इसके साथ प्रगति स्कीम को शुरू किया गया है जिसमें स्थाई से लेकर बाई-6 व टीएमएसटी कर्मचारी भी मान्यता प्राप्त कंपनी में बीटेक से लेकर डिप्लोमा कोर्स कर पाएंगे। साथ ही ऐसे कर्मचारी के बच्चे जिन्होंने डिप्लोमा व डिग्री की है प्रबंधन ग्रैजुएट ट्रेनी के रूप में उन्हें मौका देगी।

समझौते के तहत कर्मचारियों के मेजरमेंट आफ परफार्मेंस (एमओपी) में भी बढ़ोतरी की गई है। पहले न्यूनतम 3400 व अधिकतम 12,950 रुपये की दर थी जिसे बढ़ाकर न्यूनतम 6100 व अधिकतम 15,500 रुपये किया गया है। क्वालिटी स्लैब में न्यूनतम 100 व अधिकतम 1300 रुपये को बढ़ाकर न्यूनतम 300 व अधिकतम 1550 रुपये किया गया है। जबकि सेफ्टी स्लैब में न्यूनतम 100 व अधिकतम 1300 रुपये में बढ़ोतरी कर न्यूनतम 300 व अधिकतम 1500 रुपये मिलेंगे।

इस बढ़ोतरी व अन्य सुविधाओं का लाभ श्रमिकों को 1 मई से मिलना शुरू हो जाएगा।

समझौते से नाराजगी

टाटा मोटर्स में अब तक तीन वर्षों के लिए वेतन समझौता होता था जबकि इस वर्ष समझौते की अवधि को बढ़ाकर चार वर्ष किया गया है। समझौता चार वर्ष होने और कम राशि के समझौते से यूनियन के अन्य पदाधिकारियों और श्रमिकों में रोष व्याप्त है। कुछ नेताओं और श्रमिकों का कहना है कि यूनियन अध्यक्ष और महामंत्री ने मिलीभगत से समझौता कर लिया है। जबकि यूनियन नेतृत्व का कहना है कि लखनऊ में चार वर्षों का समझौता हो चुका है जबकि पुणे में इसके लिए तैयारी की जा रही है। 

टेल्को वर्कर्स यूनियन के उपाध्यक्ष आकाश दुबे ने कहा कि टाटा मोटर्स कर्मचारियों के लिए आज एतिहासिक छल व काले दिन के रूप में याद किया जाएगा। महंगाई के इस दौर में एबी लाल व आरके-तोते ने मिलकर तीन के बजाए चार वर्षों के लिए ग्रेड कर उनका गला काटने का काम किया है। जबकि अफसर हर साल अपना ग्रेड करा लेते हैं।

टेल्को वर्कर्स यूनियन के पूर्व महामंत्री प्रकाश सिंह का कहना है कि आरके-तोते कर्मचारियों को बताए कि उन्होंने किन-किन मुद्दों पर चार्टर्ड आफ डिमांड भेजा और कितने मुद्दों पर सहमति बनी। सच्चाई ये है कि ग्रेड का पूरा फार्मेट प्रबंधन तैयार करती है और यूनियन नेता बाहर आकर सिर्फ वाह-वाही लूटते हैं। इनमें बारगेनिक पावर शून्य है।

समझौते के मुख्य बिंदु-

  • ₹14000 की वृद्धि में पहले वर्ष के वेतन में 9100 रुपये, दूसरे वर्ष में 2100 रुपये जबकि तीसरे व चौथे वर्ष में 1400-1400 रुपये की बढ़ोतरी होगी।
  • समय से वेतन समझौता होने पर 5600 स्थाई श्रमिकों को ₹20000 का बोनस मिलेगा
  • वीडीए को बढ़ाकर 3000 अधिकतम किया गया
  • हेल्पर, जनरल वर्कर को तकनीशियन का पद नाम दिया गया है
  • उत्पादन बोनस अट्ठारह सौ रुपए मिलेगा
  • ₹65 सालाना इंक्रीमेंट मिलेगा
  • मेडिकल रेफरल राशि को चार लाख से बढ़ाकर ₹5 लाख किया गया, मेडिकल सपोर्ट स्कीम में पूर्व की तरह ही ₹2 लाख की मदद जारी रहेगी
  • टेल्को कॉलोनी के निवासियों को वाटर चार्ज ₹100 से बढ़ाकर ₹200 की गई
  • प्रमोशन ई-11 ग्रेट तक हो जाएगा
  • 18 महीने में मिलने वाले 3 जोड़ी वर्दी के साथ अब एक टी-शर्ट भी मिलेगा।
  • श्रमिकों को प्रति डेढ़ वर्ष में तीन पेंट-शर्ट के साथ एक-एक टी-शर्ट भी मिलेगा।
  • 15 वर्ष की सेवा पूरी करने के बाद कर्मचारियों को हाथ घड़ी मिलेगी। जबकि इससे अधिक सेवा कर चुके कर्मचारियों को सेवानिवृत्त के समय लाभ मिलेगा।
  • रविवार या छुट्टी के दिन ड्यूटी बुलाने पर बस सेवा के बदले में 250 रुपये पेट्रोल भत्ता मिलेंगा।
  • हेल्पर, आपरेटर या वर्कर के बजाए कर्मचारी अब टेक्नीशियन, सीनियर व जूनियर के पद से जाने जाएंगे।
  • कर्मचारी के निधन पर दाह संस्कार के लिए 2500 रुपये के बजाए 5000 रुपये मिलेंगे।
  • टेल्को कॉलोनी में रहने वाले कर्मचारियों को सब्सिडी के तहत 100 रुपये पानी का बिल देना पड़ता था जिसे बढ़ाकर 200 रुपये किया गया है।

उप श्रमायुक्त की उपस्थिति में वेतन समझौते पर यूनियन अध्यक्ष गुरमीत सिंह व महामंत्री आर के सिंह तथा प्रबंधन की ओर से प्लांट हेड विशाल बादशाह, हेड पी श्रीनिवास, ईआर हेड दीपक कुमार ने हस्ताक्षर किए। इसके साथ कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट (आपरेशन) एबी लाल, वाइस प्रेसिडेंट (एचआर) सीताराम कांडी, हेड (एचआर) विश्वरूप मुखर्जी सहित यूनियन के अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: