सूरत में जहरीली गैस रिसाव : 6 मज़दूरों की दर्दनाक मौत, 22 गंभीर; अफरा-तफरी का माहौल

रसायन को अवैध रूप से निकालने के दौरान टैंकर से जहरीली गैस का रिसाव हुआ और वह इलाकों में फैल गई। इससे कई मज़दूरों को सांस लेने में तकलीफ हुई। कई लोग बेहोश हो गए।

सूरत (गुजरात)। सूरत में जहरीली गैस रिसाव से एक प्रिंटिंग मिल के छह मज़दूरों की जान ले ली। केमिकल टैंकर से हुए रिसाव की चपेट में आकर 22 अन्य मज़दूर गंभीर हैं, जिनको अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कई की हालत गंभीर बताई जा रही है। दो कुत्तों की भी मौत हो गई।

घटना की जानकारी जैसे ही लोगों में पहुंची, अफरा-तफरी मच गई। मौके पर राहत कार्य चल रहा है।

Image

जानकारी के मुताबिक गुरुवार को सचिन जीआईडीसी इलाके में विश्व प्रेम डाइंग एंड प्रिंटिंग मिल के पास टैंकर से गैस रिसाव के कारण यह हादसा हुआ। गैस रिसाव के कारण कई मज़दूरों को सांस लेने में तकलीफ हुई। कई मज़दूर बेहोश हो गए, जिन्हें सूरत के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया।

सिविल अस्पताल के रेजिडेंट चिकित्सा अधिकारी ओंकार चौधरी ने कहा, ‘छह मजदूरों की मौत हो गई है, जबकि 22 अन्य का इलाज चल रहा है।’

नगर निगम ने एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया कि टैंकर से रसायन को अवैध रूप से निकालने का काम किया जा रहा था, तभी उसमें से जहरीली गैस का रिसाव हुआ और वह आसपास के इलाकों में फैल गई। इससे रंगाई एवं छपाई मिल और आसपास के इलाकों में मौजूद 26 मजदूर बेहोश हो गए, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया। इलाके में दो कुत्तों की भी मौत हो गई।

Image

ऐसे हुआ हादसा

खबर के अनुसार एक औद्योगिक टैंकर से जहरीली गैस के रिसाव के बाद हादसा हुआ। प्रिटिंग मिल के पास एक नाला स्थित है। सुबह-सुबह एक अज्ञात टैंकर चालक उस नाले में जहरीला कैमिकल डाल रहा था। इसी समय जहरीली गैस का रिसाव होने लगा।

इसकी चपेट में मिल के कर्मचारी भी आ गए और लोगों का दम घुटने लगा। घटना के समय मज़दूर फैक्ट्री में काम कर रहे थे या सो रहे थे।

सुबह करीब चार बजकर 25 मिनट पर घटना की जानकारी हुई। इसके बाद मौके पर पहुंचकर दमकल कर्मियों ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया। उन्होंने बताया कि दमकल कर्मचारियों ने टैंकर के वाल्व को बंद करके गैस रिसाव पर काबू पाया।

गुजरात के सूरत में बड़ा हादसा,जहरीली गैस से दम घुटने से 5 की मौत,20 से ज्यादा हॉस्पिटल मे एडमिट

आंध्र प्रदेश में हुई थी 12 की मौत

2020 में, आंध्र प्रदेश राज्य के बंदरगाह शहर विशाखापत्तनम में एक दक्षिण कोरियाई स्वामित्व वाली रासायनिक फैक्ट्री में गैस रिसाव से 12 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग बीमार हो गए थे। फैक्ट्री से लीक हुई गैस स्टाइरीन थी, जिसका इस्तेमाल प्लास्टिक और रबर बनाने में किया जाता है। स्टाइरीन गैस एक न्यूरोटॉक्सिन है और सांस लेने के कुछ ही मिनटों में लोगों की जान ले सकती है।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: