गुड़गाँव : हीरो मोटोकॉर्प में स्थाई श्रमिकों का तीन साल के लिए ₹22100/- का समझौता

समझौते के तहत वेतन बृद्धि की पूरी राशि मूल वेतन में समायोजित होगी। इसके साथ मृतक आश्रित की सुविधाओं, ऋण, रात्रि पाली व शट डाउन भत्ता आदि में भी बृद्धि हुई है…

गुड़गाँव। हीरो मोटोकॉर्प वर्कर्स यूनियन और हीरो प्रबंधन के बीच 31अक्टूबर को गुरुग्राम प्लांट का वेतन समझौता सम्पन्न हो गया जिसमें वर्ष 2021-2024 के लिए वेतन में ₹22100/-रुपये की बढ़ोतरी की गई है। पहले वर्ष 60% दूसरे वर्ष 20% और तीसरे वर्ष में भी 20% के हिसाब से बढ़ोतरी की पूरी राशि मूल वेतन (बेसिक) में समायोजित होगी।

उल्लेखनीय है कि लगातार भारी मुनाफा अर्जित करने वाली दोपहिया वाहन की सबसे बड़ी कंपनी हीरो मोटोकॉर्प ने अपनी 10वीं सालगिरह पर बीते 9 अगस्त को केवल एक दिन में 1 लाख से ज्यादा दोपहिया वाहनों की बिक्री की थी। उसका उत्पादन व बिक्री लगातार बढ़ रहा है।

समझौते के मुख्य बिन्दु-

हीरो मोटोकॉर्प वर्कर्स यूनियन द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार समझौते के तहत स्थाई श्रमिकों के लिए निम्नलिखित लाभ प्राप्त होंगे-

वेतन बृद्धि-

वेतन में तीन साल में22100/-रुपये की बढ़ोतरी होगी जो 2021-22 में ₹13260/-, 2022-23 में ₹4420/- व 2023-24 = ₹4420/- होगा।

अन्य लाभ-

  • श्रमिक के यहाँ बेटी के जन्म पर सुकन्या समृद्धि राशि को ₹21000/- रुपये कर दिया गया है।
  • सीएल इनकैशमेंट भी ईएल की तरह ग्रॉस सैलरी पर इनकैश होंगी।
  • किसी श्रमिक के बच्चे 12वीं कक्षा में 95% अंक लाने पर लैपटॉप और 10वीं कक्षा में 95% के साथ उत्तीर्ण होने पर कंपनी द्वारा ₹5000/- रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।
  • रात्रि पाली भत्ते को ₹160/- रुपये से बढ़ाकर ₹185/- रुपये किया गया है।
  • शट डाउन भत्ता: ₹200/- रुपये से बढ़ाकर ₹275/- रुपये किया गया है।
  • उपस्थित अवार्ड- बगैर अनुपस्थिति ₹700 से बढ़ाकर ₹800, शेष पूर्व की तरहआधे दिन की अनुपस्थिति पर ₹400, एक दिन पर ₹350 और डेढ़ दिन की अनुपस्थिति पर ₹250 ही रहेगा।
  • वार्षिक उपस्थित अवार्ड- पहले 3 छुट्टी तक ₹4000 था जो बढ़ाकर ₹4250 हो गया है।

ऋण/कर्ज

  • बच्चों की शिक्षा और संतान विवाह ऋण (कॉम्बो) ₹7.50 लाख से बढ़ाकर ₹8.50 लाख किया गया है और साथ ही इस ऋण को अब इनमें से किसी एक कार्य के लिए भी लिया जा सकता है। अब इस ऋण को पुत्र एवं पुत्री दोनों के विवाह में लिया जा सकता है।
  • गृह ऋण:- पहली बार ₹225000/- से बढ़ाकर ₹250000/-रुपये; दूसरी बार  ₹250000/- रुपये से बढ़ाकर ₹275000/- रुपये; तीसरी बार ₹275000/- से बढ़ाकर ₹300000/- रुपये; चौथी बार ₹150000/- से बढ़ाकर ₹200000/- रुपये व पांचवी बार भी ₹150000/- रुपये किया गया है।
  • मोटरसाइकिल खरीदने पर मिलने वाला ऋण कुल कीमत का 80% से बढ़ाकर 85% हो गया।

मृतक श्रमिक के आश्रित के लिए-

  • श्रमिक की स्वयं की मृत्यु पर मिलने वाली एम्बुलेंस और संस्कार राशि को ₹22000 रुपये (10000+12000) से बढ़ाकर ₹25000 (10000+15000) किया गया।
  • श्रमिक की मृत्यु पर उसकी पत्नी को मिलने वाली पेंशन राशि ₹31000/- को बढ़ाकर ₹33000/- रुपये प्रति माह किया गया है और इसे पूर्व में पेंशन ले रहे आश्रितों पर भी लागू किया जाएगा।
  • पेंशन के साथ दो बच्चों को ₹8000 (₹4000 प्रति बच्चा) पढ़ाई के लिए 18 वर्ष की आयु तक दिया जाएगा और इसे 01-08-2021 के बाद लागू किया जाएगा।

अन्य सुविधाओं में बृद्धि-

  • पहले 3 SL से ज्यादा लेने पर मेडिकल सार्टिफिकेट देना पड़ता था जो बढ़कर 5 हो गया है।
  • एक वर्ष में EL 8 बार लेने से बढ़ाकर 12 बार हो गया है।
  • WWF में एकमुश्त ₹65 लाख रुपये जमा हो गए हैं।
  • सभी श्रमिकों को लैदर शूज के साथ सेफ्टी शूज भी मिलेगा।
  • प्रति माह मिलने वाले गेटपास लेने की सीमा एक बार से बढ़ाकर दो बार हो गया है।
  • GLIC और GPA की राशि को रिवाइज किया जाएगा।

अस्थाई श्रमिकों के बारे में भी सोचना होगा

जैसी कि आज परंपरा बन गई है, यूनियन द्वारा समझौते केवल स्थाई श्रमिकों के लिए ही होते हैं, वहीं साथ में काम करने वाले अस्थाई-ठेका श्रमिकों को कोई लाभ नहीं मिलता है। हीरो में सम्पन्न इस समझौते का लाभ भी केवल स्थाई श्रमिकों को मिलेगा और बड़ी आबादी, जो ठेके में है, उसके लिए कोई समझौता नहीं हुआ है। इसलिए जहाँ स्थाई श्रमिक खुश हैं, वहीं अस्थाई श्रमिक इसे नियत मानकर दुखी और निराश होंगे।

एक कठिन समय में हुआ यह वेतन समझौता अहम और बधाई योग्य है। लेकिन यूनियन/स्थाई साथियों को अस्थाई मज़दूर साथियों के हित-लाभ के बारे में भी सोचना होगा!

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: