हरियाणा: राइट टू सर्विस एक्ट के विरोध में बिजली कर्मचारी, प्रदर्शन कर दी आंदोलन की चेतावनी

नेताओं ने कहा कि लंबे समय से हमारी मांगें लंबित हैं, जिन पर सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही। ऑनलाइन ट्रांसफर,राईट टू सर्विस एक्ट के खिलाफ कर्मचारी एकजुट होकर विरोध करेंगे।

चरखी दादरी. राइट टू सर्विस एक्ट को लेकर बिजली कर्मियों में खासा रोष है. एचएसईबी यूनियन के आह्वान पर बिजली कर्मचारियों ने कार्यकारी अभियंता कार्यालय के समक्ष धरना देते हुए रोष प्रदर्शन किया. इस दौरान कर्मचारियों ने अल्टीमेटम दिया कि सरकार द्वारा विधेयक रद्द नहीं किया और अन्य मांगों को लेकर कर्मचारी आंदोलन की राह पर जाएंगे.

दादरी के बिजली निगम कार्यकारी अभियंता कार्यालय के समक्ष कर्मचारी एकजुट हुए और ऑनलाइन ट्रांसफर,राईट टू सर्विस एक्ट के खिलाफ रोष मीटिंग करते हुए धरना दिया. धरने पर कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए रोष प्रदर्शन किया. कर्मचारी नेता विक्रम सांगवान ने कहा कि लंबे समय से हमारी मांगें लंबित हैं, जिन पर सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही. ऑनलाइन ट्रांसफर,राईट टू सर्विस एक्ट के खिलाफ कर्मचारी एकजुट होकर विरोध करेंगे.

कर्मचारियों ने कहा कि कोरोना की आड़ में सरकार कर्मचारियों का शोषण कर रही है. कोरोना काल मे जब सभी अपने घरों में बंद थे, उस समय भी बिजली कर्मचारियों ने अपनी सेवाएं दी. हम राइट टू सर्विस एक्ट के विरोध करते हैं, क्योंकि हमारे महकमे में कर्मचारियों को कमी है और पक्के कर्मचारियों की भर्ती नहीं हुई.

यूनिट प्रधान विक्रम सांगवान ने कहा कि बिजली विधेयक सरकार जो लाना चाहती है, वो मजदूर, किसान, कर्मचारी किसी के हित में नहीं है. सरकार अगर सरकार नहीं मानती है तो प्रदेश कार्यकारिणी जो कदम उठाएगी चाहे, उसमें हड़ताल भी करनी पड़ी तो उसमें हर बिजली कर्मचारी बढ़कर भाग लेगा.

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: