ग्रेड पे में कटौती के विरोध में पुलिस कर्मियों के परिजन उतरे सड़क पर, दिया धरना

आगामी विधानसभा चुनाव में अंजाम भुगतने की दी चेतावनी

रुद्रपुर (उत्तराखंड)। ग्रेड पे में कटौती का विरोध कर रहे पुलिस कर्मियों के परिजनों ने रविवार को रोष फुट पड़ा। स्थानीय अंबेडकर पार्क में महिलाओं-पुरुषों ने धरना प्रदर्शन करते हुए ग्रेड पे की माँग दोहराई। सरकार को चेतावनी दी कि पूर्व की भांति सिपाहियों को 4600 रुपये ग्रेड पे नहीं मिला तो आगामी विधानसभा चुनाव में अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहें।

पुलिसकर्मियों के ग्रेड पे घटाने से आक्रोश

उल्लेखनीय है कि 20 साल की सेवा पूरी करने पर पुलिस के कांस्टेबल व हेड कांस्टेबल को पहले 4600 का ग्रेड पे मिलता था। सातवें वेतन आयोग की सिफारिश में यह घटकर 2800 रुपये हो गया। इससे ऐसे कांस्टेबल व हेड कांस्टेबलों के साथ ज्यादती है जो किसी वजह से सब इंस्पेक्टर रैंक में प्रमोट होने से रह जाते हैं और अब सातवें वेतन आयोग की सिफारिश पर वेतन भी कम हो रहा है। 

इससे पुलिसकर्मियों में विरोध भी तेज होने लगा। बीते 13 मई को तमाम पुलिस कर्मचारियों ने काला मास्क पहनकर विरोध भी जताया। विरोध का ये तरीका सोशल मीडिया पर वायरल भी हुआ। इया बीच पुलिसकर्मियों के परिजनों ने आंदोलन की कमान संभाली। नए मुख्यमंत्री धामी के गृह नगर आगमन पर भी परिजनों ने ज्ञापन दिया था।

रविवार को परिजनों का प्रदर्शन

रविवार को पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत सुबह साढ़े 10 बजे से ही पुलिस कर्मियों के परिजन आंबेडकर पार्क में एकत्र होने लगे थे। करीब 200 महिलाएं और पुरुष धरनास्थल पर जुट गए और धरना देकर बैठ गए। आंदोलनकारियों की संख्या बढ़ती देख पुलिस अधिकारियों में खलबली मैच गई।

इस दौरान धरनास्थल पर हुई सभा में रिटायर्ड कैप्टन बीडी उपाध्याय ने कहा कि ग्रेड पे में कटौती दुर्भाग्यपूर्ण है। सरकार और पुलिस अधिकारियों को ग्रेड पे में कटौती का फैसला वापस लेना चाहिए।

पुलिस कर्मियों की पत्नियों का कहना था कि कोरोना काल में जान हथेली पर रखकर काम करने का इनाम उनके पतियों को ग्रेड पे में कटौती कर दिया गया। महिलाओं ने सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

प्रदर्शन में शामिल होने के लिए रुद्रपुर, गदरपुर, किच्छा, सितारगंज, दिनेशपुर, पुलिस लाइन, शांतिपुरी, पंतनगर, नानकमत्ता, खटीमा समेत कई जगह के पुलिस कर्मियों के परिजन पहुँचे थे।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: