26 जुलाई : किसान आंदोलन के 8 महीने पूरे, जंतर-मंतर पर होगी महिला किसान संसद

26 जुलाई को मिशन उत्तर प्रदेशलखनऊ में होगा शुरू

दिल्ली की सीमाओं पर 8 माह से जारी ऐतिहासिक किसान आंदोलन ने देश में किसानों की एकता और प्रतिष्ठा को बढ़ाया है। इस दिन जंतर-मंतर पर किसान संसद का संचालन पूरी तरह महिलाएं करेंगी। लखनऊ में मिशन उत्तर प्रदेशभी शुरू होगा।

किसान आंदोलन के 8 महीने, पूरे देश में फैली लहर

26 जुलाई 2021 को, किसान आंदोलन भारत की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर निरंतर विरोध प्रदर्शन के 8 महीने पूरे कर लेगा। इन आठ महीनों में भारत के लगभग सभी राज्यों के लाखों किसान विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए। विरोध शांतिपूर्ण रहा, और हमारे अन्नदाताओं के सदियों पुराने लोकाचार को दर्शाया है। कठिनाइयों का सामना करने के लिए किसानों की दृढ़ता और अटलता, और भविष्य के लिए उनके आशा और संकल्प को दर्शाता है।

इस अवधि के दौरान किसानों ने खराब मौसम और दमनकारी सरकार का बहादुरी से सामना किया। एक चुनी हुई सरकार ने – जो मुख्य रूप से किसानों के वोटों पर सत्ता में आई थी – उनके साथ विश्वासघात किया, और किसानों को अपनी आवाज और मांगों को सच्चे, धैर्यपूर्वक और शांतिपूर्ण तरीके से उठाने के लिए विवश होना पडा।

संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने कहा कि इन विरोध प्रदर्शनों ने देश में किसानों की एकता और प्रतिष्ठा को बढ़ाया है और भारतीय लोकतंत्र को गहरा किया है। इस आंदोलन ने किसानों के पहचान को सम्मान दिया है।

सोमवार को किसान संसद का पूरा संचालन महिलाओं के पास

जंतर-मंतर पर किसान संसद का संचालन पूरी तरह महिलाएं करेंगी। महिला किसान संसद भारतीय कृषि व्यवस्था में और चल रहे आंदोलन में, महिलाओं द्वारा निभाई जाने वाली महत्वपूर्ण भूमिका को दर्शाएगी। महिला किसान संसद के लिए विभिन्न जिलों से महिला किसानों का काफ़िला मोर्चे पर पहुंच रहा है।

मिशन उत्तर प्रदेशकल लखनऊ में शुरू होगा

मिशन यूपी की शुरुआत के लिए एसकेएम नेता सोमवार को लखनऊ जाएंगे। वे वहां आयोजित प्रेस कान्फ्रेंस को संबोधित करेंगे। ज्ञात हो की, उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं। इस साल की शुरुआत में हुए पंचायत चुनावों में किसान आंदोलन ने अपनी छाप छोड़ी थी, और कई जगहों पर भाजपा उम्मीदवारों को दंडित किया गया था और निर्दलीय उम्मीदवारों को सबसे अधिक सीटें मिलीं थीं।

किसानों की मौत पर सरकार का बयान शर्मनाक

भारत सरकार का बार-बार यह बयान कि उसके पास मौजूदा आंदोलन में किसानों की मौत का कोई आंकड़ा नहीं है, बेहद शर्मनाक है और एसकेएम मोदी सरकार के इस कठोर रवैये की निंदा करता है। पंजाब सरकार ने पंजाबी प्रदर्शनकारियों की मौत की आधिकारिक संख्या 220 रखी है। एसकेएम इस संख्या की पुष्टि करने की स्थिति में नहीं है।

हालांकि, अगर मोदी सरकार किसान आंदोलन द्वारा रखे गए आंकड़े, जो मौजूदा संघर्ष में अब तक कम से कम 540 मौतों की एक बेहिचक संख्या दिखाती है, को नहीं मानना चाहती है, तो सरकार को कम से कम राज्य सरकार के आधिकारिक आंकड़े को देखना चाहिए। कि वह ऐसा नहीं करना चाह रही है, भाजपा के किसान विरोधी रवैये को स्पष्ट करता है।

हरियाणा सरकार किसानों पर दर्ज मामले तत्काल वापस ले

एसकेएम ने सिरसा प्रशासन द्वारा लगभग 525 प्रदर्शनकारियों पर, पुलिस द्वारा गलत तरीके से गिरफ्तार किए गए पांच प्रदर्शनकारियों को रिहा करने की मांग करने के लिए हाल ही में दिल्ली-डबवाली राजमार्ग पर यातायात अवरुद्ध करने के लिए, दर्ज मामलों की निंदा की। वरिष्ठ न्यायाधीशों ने भी स्पष्ट बताया है कि यहां प्रदर्शनकारियों के खिलाफ राजद्रोह का कोई मामला नहीं बनता है।

हालांकि गिरफ्तार किए गए पांच किसानों को रिहा कर दिया गया है, विडंबना यह है कि हरियाणा सरकार ने अब 525 किसान, जो मूल रूप से यह कह रहे थे की राजद्रोह का आरोप गलत और अरक्षणीय है, के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

एसकेएम मांग करता है कि हरियाणा सरकार इन मामलों को तुरंत वापस ले। एसकेएम ने कहा, “यह स्पष्ट है कि हरियाणा सरकार ने अभी भी हिसार, टोहाना और सिरसा में गलत तरीके से हिरासत में लिए गए और दर्ज मामलों से कोई सबक नहीं सीखा है। ये ताजा मामले वास्तव में हास्यास्पद और अस्वीकार्य हैं।”

किसानों का जत्था मोर्चों पर लगातार पहुँच रहा है

किसानों के कई नए दल विभिन्न विरोध स्थलों पर पहुंच रहे हैं। बिजनौर से निकल कर रविवार को एक बड़ी ट्रैक्टर रैली गाजीपुर बार्डर पर पहुंची। साथ ही किसानों में एकता व सौहार्द को मजबूत करने के लिए आज पलवल अनाज मंडी में किसान महापंचायत का आयोजन किया गया।

बजप नेता कर रहे हैं विरोध का सामना

पंजाब में, भाजपा नेता बलभद्र सेन दुग्गल को कल फगवाड़ा में किसानों के काले झंडे के विरोध का सामना करना पड़ा। इसी तरह, हरियाणा के भाजपा राज्य इकाई के अध्यक्ष ओम प्रकाश धनखड़ को हरियाणा के बादली में विरोध का सामना करना पड़ा, जब वे पार्टी की एक बैठक में शामिल होने के लिए वहां पहुंचे थे। हरियाणा के हिसार गांव में, भाजपा नेता सोनाली फोगट को कल वहां एकत्र हुए किसानों के द्वारा विरोध में काले झंडे दिखाए गए। जैसा कि एक दिन पहले रुद्रपुर में हुआ था, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री को भी काले झंडे के विरोध का सामना करना पड़ रहा है।

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति (241वां दिन, 25 जुलाई 2021)

जारीकर्ता – बलबीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हन्नान मोल्ला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहां, शिवकुमार शर्मा (कक्का जी), युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: