किसानों का हौसला अटूट : फिर से टेंट तैयार; 7 जून को हरियाणा के थानों का होगा घेराव

ट्विटर अकाउंट “ट्रैक्टर टू ट्विटर” पर मानहानि केस की निंदा

सयुंक्त किसान मोर्चा ने जारी प्रेस नोट में कहा है कि बारिश तूफान के बाद फिर से टेंट तैयार हो गया है, किसानों का हौसला अटूट हैं और वे लंबे संघर्ष को भी तैयार हैं। टोहाना में किसानों की बैठक में 7 जून को 11 बजे 1 बजे तक हरियाणा के सभी पुलिस थानों के घेराव का फैसला हुआ है। मोर्चा ने ट्विटर अकाउंट “ट्रैक्टर टू ट्विटर” पर मीडिया संगठन द्वारा मानहानि के केस की निंदा की है।

बुधवार को हरियाणा के टोहाना में इकट्ठे हुए किसानों की बैठक में फैसला लिया गया कि आने वाली 7 जून को 11 बजे से 1 बजे तक हरियाणा के सभी पुलिस थानों का घेराव किया जाएगा। जजपा विधायक देवेंद्र बबली द्वारा किसानों को अपशब्द बोले जाने और किसानों पर पुलिस केस दर्ज करने के विरोध में यह निर्णय बना है। अगर 7 जून तक भी किसानों के खिलाफ दर्ज केस वापस नहीं होते और विधायक बबली माफी नहीं माँगते तो 11 और 12 जून को टोहाना के हर गाँव मे विशाल प्रदर्शन होंगे।

किसान आंदोलन के प्रचार प्रसार में अहम योगदान निभाने वाले टि्वटर अकाउंट ट्रैक्टर टू ट्विटर को एक मीडिया संगठन द्वारा मानहानि का नोटिस भेजा गया है। यह अकाउंट पूर्ण रूप से तथ्यों के आधार पर अपने विचार रख रहा है। इस तरह से मानहानि के नोटिस भेजना किसानों की आवाज दबाने से बराबर है। संयुक्त किसान मोर्चा ने इस कदम की सख्त निंदा की है। इस एकाउंट के संबंधित व्यक्ति पूरी कानूनी कार्रवाई में शामिल होंगे और अपना पक्ष रखेंगे।

पिछले दिनों से खराब मौसम के चलते तूफान व बारिश से किसानों के टेंट उखड़ गए थे, जिससे किसानों का भारी नुकसान हुआ था। मंगलवार से ही किसानों ने धरनास्थलों पर सफाई करते हुए फिर से प्रबंध करना शुरू कर दिया था। किसान लगातार मेहनत कर अपने रहने व लंगर बनाने का प्रबंध कर रहे है।

शाहजहांपुर बॉर्डर पर भारी नुकसान के बाद जनसहयोग व जन कल्याण के संगठनों द्वारा किसानों के टेंट व अन्य प्रबंधन किये गए। अब किसानों ने पहले से बेहतर स्थिति में टेंट लगाए है व धरना प्रदर्शन जारी रखा है। सरकार के किसानों को हिंसक दिखाने के अनेक प्रयासों के बाद भी किसान शांतमयी प्रदर्शन कर रहे है।

सयुंक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर किसान लगातार दिल्ली मोर्चो पर पहुंच रहे है। आज भी सैंकड़ो की संख्या में किसान सिंघू बॉर्डर पहुंचे। किसान नेताओ ने जत्थों का स्वागत करते हुए मोर्चो को मजबूत करने की जिम्मेदारी दी।

किसान अब लंबे संघर्ष की तैयारी में है। पहले किसानों ने 6 महीने की तैयारी की थी पर सरकार किसानों की मांगें नहीं मान रही है। किसानों ने अपनी मांगे माने जाने तक धरना जारी रखने का संकल्प लिया है और सभी तरह के प्रबंध भी कर लिए है।

सयुंक्त किसान मोर्चा द्वारा 188वें दिन, 2 जून को जारी, जारीकर्ता – बलवीर सिंह राजेवाल, डॉ दर्शन पाल, गुरनाम सिंह चढूनी, हनन मौला, जगजीत सिंह डल्लेवाल, जोगिंदर सिंह उग्राहां, युद्धवीर सिंह, योगेंद्र यादव, अभिमन्यु कोहाड़।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: