नेस्ले में मृत्यु पर आश्रित बच्चों की शिक्षा और चिकित्सा की मिलेगी सुविधा

मृतक आश्रित के लिए विशेष पॉलिसी हुई जारी

नेस्ले इंडिया ने अपने सभी प्लांटों में समस्त स्थाई कर्मचारियों के लिए एक विशेष योजना लागू की है, जिसके तहत किसी कर्मचारी की किसी भी प्रकार से मृत्यु पर निर्भर बच्चों के लिए शिक्षा और आश्रित परिवार के लिए चिकित्सा की सुविधा मिलेगी।

दरअसल कोविड-19 की गंभीर स्थिति को देखते हुए नेस्ले इंडिया की समस्त यूनियनों ने 50 लाख रुपए तक मुआवजे की माँग की थी। यूनियनों ने यह भी कहा था कि वर्तमान में कंपनी में 10 लाख रुपए दुर्घटना मृत्यु की जो पालिसी है उसे कोविड-19 मृत्यु के लिए भी लागू किया जाए।

उसके बाद प्रबंधन ने इस नई पॉलिसी को जारी करते हुए बताया कि यह लाभ कोविड-19 से होने वाली मृत्यु पर भी कर्मचारियों को मिलेगा।

पंतनगर प्लांट में पिछले दिनों कोविड से एक श्रमिक और एक प्रबंधक की मृत्यु हुई थी और उन दोनों को इस पॉलिसी का लाभ मिल गया है।

नेस्ले की नई पॉलिसी

नेस्ले इंडिया ने नेसएड (NestAid) एन इको सिस्टम आफ केयर (देखभाल का एक पारिस्थितिक तंत्र) की शुरुआत की है। जिसके तहत तीन स्तंभों में लाभ प्रदान किया जाएगा देखभाल यानी चिकित्सा सहायता, अप्रत्याशित योजना के लिए वित्तीय सहायता और स्वस्थ मन, स्वस्थ जीवन कल्याण समर्थन।

इस योजना के तहत यदि किसी स्थाई कर्मचारी की दुर्भाग्यपूर्ण मृत्यु हो जाती है तो इस नीति के तहत बच्चों की शिक्षा और गंभीर बीमारियों के लिए चिकित्सा सहायता का प्रावधान किया गया है। यह नीति 1 जनवरी 2020 से प्रभावी होगी, जोकि मौजूदा नीति के साथ जोड़कर होगी।

इसके तहत यदि किसी कर्मचारी की किसी भी कारण से मृत्यु हो जाती है तो उनके निर्भर बच्चों को स्कूली शिक्षा के लिए दो लाख रुपए तक तथा स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए ढाई लाख रुपए प्रति वर्ष प्रति बच्चे के हिसाब से सहायता राशि दी जाएगी। आश्रित परिवार में बच्चे और पति पत्नी के लिए अस्पतालीकरण की सुविधा और गंभीर बीमारियों के इलाज का खर्च कंपनी द्वारा वहाँ किया जाएगा। व्यवसायिक पाठ्यक्रम में निर्भर बच्चे और पति या पत्नी को एक बार के लिए 2 लाख रुपए प्रति आश्रित दिया जाएगा। 

इसके अलावा अन्य चिकित्सा की सुविधा भी दी जाएगी जिसमें ऑक्सीजन, डोमिसिलिरी के तहत ऑक्सीजन पाइप, मशीन, थर्मामीटर, दवाएं आदि तथा वैक्सीन की प्रतिपूर्ति प्रदान की जाएगी। यह सभी लाभ कंपनी में जीआईपी, ऋण, मृत्यु लाभ आदि की मौजूद सुविधाओं के अतिरिक्त होगी।

यूनियनों ने जाहिर की खुशी

कंपनी द्वारा इस नई योजना के शुरू करने पर नेस्ले कर्मचारी संगठन के अध्यक्ष सोहनलाल, महामंत्री चंद्र मोहन लखेडा तथा नेस्ले मज़दूर संघ पंतनगर के अध्यक्ष मुकेश पांडे और महामंत्री निर्मल पाठक ने खुशी जाहिर की है और बताया है कि भारत में नेस्ले की सभी इकाइयों के लिए यह पॉलिसी आई है। यह यह सुविधा मृतक साथी के परिवार को सेवाकाल 58 साल की अवधि तक के लिए है।

यूनियन नेताओं ने कहा कि नेस्ले के समस्त कर्मचारियों के लिए सामान्य बीमा जीएचआईपी पहले से है। लेकिन मृतक कर्मचारियों के लिए यह नई पॉलिसी अब आई है।

नेताओं ने बताया कि हमारी माँग आश्रित माता-पिता को भी लाभ से जोड़ने की है जो कि कॉरपोरेट स्तर पर ही निस्तारित होगा। नेताओं ने कहा कि इससे न केवल कोविड-19 के भयावह दौर में बल्कि सामान्य मृत्यु की दशा में भी श्रमिकों को एक सुरक्षा की गारंटी मिली है।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: