18 अप्रैल को निजीकरण के विरोध में हरियाणा सरकार के मंत्री दफ्तर के बाहर कर्मचारी करेंगे प्रदर्शन

संपत्ति वसूली विधेयक-2021 को रद्द करने की माँग

लंबित मांगों की अनदेखी और विभागों में निजीकरण की मुहिम को तेज करने के खिलाफ कर्मचारी 18 अप्रैल को कैबिनेट मंत्री मूलचंद शर्मा के ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करेंगे। इसमें सभी विभाग, बोर्ड, निगम, नगर निगम, वाईएमसीए यूनिवर्सिटी के अनुबंधित व नियमित कर्मचारी शामिल होंगे।

कर्मचारी सेक्टर 8 स्थित हनुमान मंदिर पर एकत्रित होंगे। फिर वहां से बाजार में मांगों के समर्थन और सरकार के अड़ियल रवैये के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जुलूस की शक्ल में कैबिनेट मंत्री के सेक्टर 8 स्थित ऑफिस पर पहुंचेंगे। यह निर्णय गुरुवार को सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा की जिला कमेटी की बैठक में लिया गया।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा ने कहा कि महंगाई बढ़ती जा रही है। सरकार ने महंगाई भत्ते पर रोक लगा रखी है। इससे हर कर्मचारी को सालाना 70 से 90 हजार रुपये का नुकसान उठाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा सरकार डीए बहाल करने के प्रति गंभीर नहीं है। पूरानी पेंशन बहाल करने और ठेका प्रथा समाप्त कर ठेका कर्मियों को सीधे विभागों के पे-रोल पर लेने, कच्चे कर्मियों को पक्का करने और समान काम समान वेतन व सेवा सुरक्षा प्रदान करने जैसी जायज मांगों को भी सरकार लटका के रखना चाहती है।

बैठक में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव में आंदोलनों को रोकने के उद्देश्य से बनाए गए संपत्ति वसूली विधेयक-2021 की निंदा करते हुए इस कानून सहित तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने व एमएसपी पर कानून बनाने की मांग की गई। उन्होंने कहा- दर्जनों विभाग के कर्मचारियों को 3 से लेकर 6 महीने से वेतन नहीं मिला है।

ठेकेदार बदल जाने की सूरत में मुख्य सचिव के ठेका सफाई कर्मचारियों को नौकरी से नहीं निकालने के आदेश को धता बताते हुए ठेकेदार ने मार्केट कमेटी करनाल से 22 सफाई कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया है। इसी प्रकार, कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड से 65 सफाई कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया गया है। एक एजेंसी को ठेका देने के नाम पर स्वास्थ्य विभाग, आईटीआई सहित अनेक विभागों में कई साल से कार्यरत ठेका कर्मचारियों को नौकरी से निकाल कर अपने चेहतों को नौकरी पर लगाने की योजना बनाई जा रही है। सीएम के आश्वासन के बावजूद 1983 बर्खास्त पीटीआई को अभी तक एडजस्ट नहीं किया गया है। बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री, जिला सचिव बलबीर सिंह बाल गुहेर आदि मौजूद थे।

दैनिक भास्कर से साभार

%d bloggers like this: