मुम्बई के एक अस्पताल में देर रात लगी भीषण आग, 2 की मौत

मरीजों में दहशत, इलाके में अफरा-तफरी

मुंबई के भांडुप में एक अस्पताल में आग लगने से दो लोगों की मौत हो गई। हड़कंप के बीच कोरोना संक्रमित समेत 76 मरीज अन्य जगह शिफ्ट कर दिए गए हैं। आग लगने के बाद इलाके में अफरा तफरी मच गई। दमकल के सहयोग से पुलिस बचाव कार्य में जुटी है। अभी आग लगने की वजह का पता नहीं लगाया जा सका है। दमकल की 23 गाड़ियां आग पर काबू पाने में जुटी हैं।

डीसीपी प्रशांत कदम का कहना है कि अस्पताल में लगी आग लेवल- 3 या लेवल- 4 की है। आग रात में तकरीबन 12.30 बजे लगी। पहली बार लपटें पहले तले पर स्थित एक माल में देखी गईं। उसके बाद इसने तेजी से विकराल रूप अख्तियार कर लिया। उनका कहना है कि कोविड केयर अस्पताल में दाखिल 76 मरीजों को अन्य जगह पर शिफ्ट कर दिया गया है।

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर का कहना है कि आग लगने के कारणों का अभी तक पता नहीं लग सका है। उन्होंने इस बात पर हैरत जताई कि मॉल में अस्पताल चल रहा था। पेडनेकर का कहना है कि इस तरह का वाकया उन्होंने पहली बार देखा है। अस्पताल माल में कैसे बनाया गया, इसकी जांच कराकर सख्त एक्शन संबंधित लोगों के खिलाफ लिया जाएगा। मेयर के मुताबिक फिलहाल सारा ध्यान आग बुझाने पर लगाया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक गुरुवार रात तकरीबन 12 बजे मुंबई के भांडुप के एक मॉल में स्थित अस्पताल में अचानक आग लगने से हड़कंप मच गया। सूचना मिलते ही मुंबई पुलिस के साथ फायर ब्रिगेड मौके पर पहुंची और रेस्क्यू अभियान चलाया गया। इस अभियान में कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ ही 76 मरीजों को अस्पताल से सुरक्षित बाहर निकाला गया है। सभी को दूसरे अस्पतालों में भेज दिया गया है।

फिलहाल इस हादसे में अभी तक दो लोगों के मारे जाने की खबर मिली है। पुलिस का कहना है कि आग बहुत तेजी से फैली। दमकल की गाड़ियां एक हिस्से की आग पर काबू पा रही थीं तो आग अस्पताल के दूसरे कोने तक फैल रही थी। फिलहाल स्थिति काफी हद तक काबू में बताई गई है। पुलिस के मुताबिक, आग पर काबू पाने के बाद संबंधित लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जाएगा। मॉल में अस्पताल चलाने की अनुमति किसने दी, यह बात भी जांच का विषय है। पुलिस का कहना है कि मॉल जैसी जगह में अस्पताल नहीं चलाया जा सकता है।

उधर, दमकल का कहना है कि आग लगने के कारणों का पता नहीं लग सका है। एक बार घटना पूरी तरह से काबू हो जाए तभी पुख्ता तौर पर कहा जा सकता है कि आग कैसे लगी। फायर ब्रिगेड के अफसरों के मुताबिक, आग जिस तेजी से फैली उससे वह खुद भी स्तब्ध हैं। आग की लपटों ने तेजी सले पूरे अस्पताल को अपनी चपेट में ले लिया। जब तक लपटों पर काबू पाते, दो लोगों की जान चली गई।

जनसत्ता से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: