एक साल के संघर्ष के बाद रॉकेट इंडिया में 3 साल के लिए ₹9050 का समझौता

12 महीने से मज़दूरों का जुझारू संघर्ष रंग लाया

रुद्रपुर (उत्तराखंड)। राकेट इंडिया में 12 महीने के लगातार संघर्ष के बाद तीन साल के लिए ग्रास में ₹9050 का समझौता सम्पन्न हुआ। 1 मार्च से मज़दूर हड़ताल पर जाने वाले थे। इस बीच कई दौर की मैराथन बैठकों के बाद दोनो पक्षों में सहमति बनी और आज 5 मार्च को सहायक श्रम आयुक्त के समक्ष समझौते पर हस्ताक्षर हुआ।

ज्ञात हो कि राकेट रिद्धि सिद्धि कर्मचारी संघ ने नए वेतन समझौते के लिए 5 मार्च 2020 को माँग पत्र दिया था और एक साल बाद 5 मार्च 2021 को समझौता संपन्न हुआ।

इस दौरान एएलसी व डीएलसी की मध्यस्तता में कई दौर की वार्ताएं चली। मज़दूरों ने सत्याग्रह आंदोलन चलाया। उधर श्रमिक संयुक्त मोर्चा के संघर्ष से गठित अपर जिलाधिकारी महोदय की अध्यक्षता में बनी उच्चस्तरीय कमेटी के समक्ष भी दो दौर की वार्ताएं चली। लेकिन गतिरोध की स्थिति लगातार बनी रही।

माँगपत्र कोर्ट के लिए रेफर होने पर यूनियन ने की थी हड़ताल की घोषणा

इस बीच प्रशासन से प्रबन्धन के वायदे दो बार असफल हुए। उधर डीएलसी ने माँग पत्र को श्रम न्यायालय के लिए संदर्भित कर दिया था। इसके बाद यूनियन ने प्रशासन से वायदाखिलाफी के विरुद्ध कंपनी गेट पर धरना शुरू किया और 1 मार्च से हड़ताल की घोषणा की। अंततः दोनों पक्षों के बीच वार्ता से समझौता संपन्न हुआ।

समझौते के मुख्य बिंदु

  • समझौते के तहत ₹9050 ग्रास में 3 साल की वेतन वृद्धि होगी;
  • 3 सालों में प्रति वर्ष क्रमशः 3000+3000+3050 की राशि के हिसाब से बृद्धि होगी;
  • पिछले 12 माह के एरियर का पूरा भुगतान होगा;
  • सामान्य मृत्यु पर 10,00,000 रुपए के बीमा का समझौता हुआ है, जिसकी क़िस्त कंपनी देगी;
  • समस्त श्रमिकों को अब ₹16800 बोनस मिलने का भी समझौता हुआ है;
  • कंपनी में मौजूद अन्य मुद्दों पर भी सहमति बनने के साथ उसका निस्तारण हो गया है;
  • पूर्व में मिलने वाली सभी सुविधाएं यथावत जारी रहेंगी और किसी प्रकार की प्रतिशोधात्मक कार्यवाही नहीं होगी।

यूनियन ने बधाई व धन्यवाद दिया

इस जीत के लिए यूनियन अध्यक्ष गोविंद सिंह और महामंत्री संजय सिंह ने कुशल निर्देशन के लिए मज़दूर सहयोग केंद्र को, सभी मज़दूरों को, सहयोगी संगठनों को, श्रमिक संयुक्त मोर्चा को और सभी मीडिया व पत्रकार बंधुओं को धन्यवाद दिया है।

समझौता में सहायक श्रमायुक्त की उपस्थिति में प्रबन्धन की ओर से रविन्द्र रावत कारखान प्रबन्धक, मानवेन्द्र सिंह एच आर हेड, गोपाल राजपूत , पुनीत वालिया , राकेश सरकार , प्रदीप सक्सेना, तथा यूनियन की ओर से गोविंद सिंह अध्यक्ष, संजय सिंह बोरा महामंत्री, धीरज खाती उपाध्यक्ष, धीरज जोशी संयुक्त मंत्री, रमेश चंद्र कोषाध्यक्ष, सतेन्द्र सिंह संगठन मंत्री, बालम सिंह प्रचार मंत्री ने हस्ताक्षर किए हैं।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: