दो फैक्ट्रियों में आग से औद्योगिक क्षेत्र में दहशत

ग्लास और गत्ता फैक्ट्रियों में लगी भीषण आग

फीरोजाबाद: नगला भाऊ औद्योगिक क्षेत्र स्थित दो फैक्ट्रियों में रविवार दोपहर भीषण आग लग गई। इसे बुझाने में फायर ब्रिगेड को पांच घंटे लग गए। आगरा और मैनपुरी से भी दमकल बुलाई गई। आग से दोनों फैक्ट्रियों में लाखों रुपये का नुकसान हुआ है।

घटना दोपहर 11.45 बजे की है। फैंसी लाइट बनाने और आनलाइन शापिंग करने वाली एंजिल ट्रेडिंग ग्लास फैक्ट्री में पांच दर्जन से अधिक कर्मचारी काम कर रहे थे। मालिक सुगंध गुप्ता निवासी आर्चिड ग्रीन भी अपनी केबिन में बैठे थे, इस बीच फैक्ट्री के एक कोने से धुआं निकलने लगा। देखते-देखते आग की लपटें उठने लगीं। इस दौरान कर्मचारी फैक्ट्री से बाहर भागे और पड़ोसियों की मदद से आग बुझाने के प्रयास में लग गए।

इंस्पेक्टर दक्षिण सुशांत गौर पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। मुख्य अग्निशमन अधिकारी जसवीर सिंह भी दमकल की गाड़ियों के साथ पहुंच गए। सभी आग बुझाने के प्रयास में लगे थे। इसी दौरान आग पड़ोस में स्थित गत्ते की पैकिग करने वाली फैक्ट्री सिमको प्रिंट पैक इंडस्ट्रीज व इसके गोदाम तक पहुंच गई। दो फैक्ट्रियों में आग से आसमान में धुएं के बादल छा गए। नगर निगम के पांच टैंकर भी पानी लेकर पहुंचे।

एसपी सिटी मुकेश मिश्र और सीओ सिटी हरीमोहन सिंह शहरी क्षेत्र के सभी थानों की फोर्स के साथ हादसा स्थल पर पहुंचे। आग पर पांच घंटे बाद काबू पाया जा सका। ग्लास फैक्ट्री के सुगंध गुप्ता ने 50 लाख और गत्ता फैक्ट्री के मालिक पंकज जैन ने एक करोड़ रुपये का नुकसान होने का अनुमान जताया है। पड़ोस की उमा ग्लास फैक्ट्री को भी एहतियातन खाली करा दिया गया था। आग बुझाने के लिए आगरा और मैनपुरी से दमकल की दो-दो गाड़ियां मंगाई गई। टूंडला, सिरसागंज, शिकोहाबाद, आयुध फैक्ट्री हजरतपुर से भी गाड़ियां मंगाई गईं। कुल 11 दमकल लगाई गई।

आग बुझाने के दौरान एंजिल फैक्ट्री की एक दीवार गिर गई। इस कारण आग की लपटें गत्ता फैक्ट्री तक पहुंची। जंगले से भी आग की लपटें वहां पहुंचीं। – 40 से अधिक साइकिलें स्वाहा : हादसे से पहले गत्ता फैक्ट्री में 40 मजदूर काम कर रहे थे। इनकी साइकिलें फैक्ट्री के अंदर साइकिल स्टैंड पर खड़ी थीं। कर्मचारियों ने बताया कि वे हड़बड़ी में अपनी साइकिलें बाहर नहीं निकाल सके। ये सब आग की भेंट चढ़ गई। गत्ता फैक्ट्री में आग बुझाने में आई दिक्कतें

गत्ता फैक्ट्री में आग बुझाने में दमकलकर्मियों को काफी दिक्कतें आईं। एक तरफ से आग बुझाई जाती, दूसरी तरफ से लपटें निकलने लगतीं। आग बुझाने में पड़ोसियों ने भी मदद ़की। सबमर्सिबल व अन्य साधनों से नगर निगम के टैंकर और दमकल की गाड़ियों में बार बार पानी भरा जाता रहा। – दोनों फैक्ट्रियों में नहीं थे आग बुझाने के इंतजाम

मुख्य अग्निशमन अधिकारी जसवीर सिंह ने बताया कि दोनों फैक्ट्रियों में आग बुझाने के इंतजाम नहीं थे। इस कारण आग पर काबू पाने में दिक्कत आई। इस संबंध में फैक्ट्री मालिकों को नोटिस दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रथम दृष्टया हादसे की वजह शार्ट सर्किट बताई जा रही है। इसकी सत्यता का पता लगाया जा रहा है।

शिकोहाबाद के नौशेहरा क्षेत्र स्थित सीको पाइप फैक्ट्री में भी रविवार सुबह हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर गिरने से आग लग गई। दमकल की दो गाड़ियों की मदद से आग पर काबू पाया जा सका। हादसे में लाखों रुपये का नुकसान हो गया। फैक्ट्री में सीमेंट के पाइप बनाए जाते हैं।

जागरण से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे