1 मार्च को किसान महापंचायत किसान मैदान रुद्रपुर में

जनविरोधी 3 कृषि कानूनों के खिलाफ एकजुट होंगे किसान

रुद्रपुर (उत्तराखंड)। जनविरोधी 3 कृषि कानूनों के खिलाफ देशभर में चल रहे किसान आंदोलन की कड़ी में उधम सिंह नगर जिले के रुद्रपुर में किसान मैदान में 1 मार्च को किसान महापंचायत के लिए पूरे इलाके से किसान एकत्रित हो रहे हैं। मज़दूरों ने भी इसका समर्थन किया है।

रुद्रपुर में हो रही किसान महापंचायत उत्तराखंड के साथ सीमावर्ती उतार प्रदेश के जिलों से भी भारी संख्या में पूरे हौसले के साथ किसान जुट रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि 26 नवम्बर से दिल्ली की सरहदों पर बैठे लाखों-लाख किसान अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रहे हैं। जनविरोधी तीन कृषि कानूनों के ख़िलाफ जारी किसान आंदोलन का देश की खाद्य सुरक्षा, बेरोज़गारी व सरकार द्वारा देशी-विदेशी पूँजी के हित में व्यापक मेहनतकश तबके के विरुद्ध काम करने जैसे विभिन्न मुद्दों के साथ भी सीधा सम्बन्ध है।

मोदी सरकार के इन तीन कृषि क़ानूनों का पुरजोर विरोध करके पंजाब और हरियाणा के किसानों की अगवाई में आगे बढ़ता यह महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड, राजस्थान, बिहार, तमिलनाडु, कर्नाटक, तेलंगाना सहित पूरे देश में विस्तारित हो चुका है।

किसान आंदोलन को पटरी से उतारने के लिए मोदी सरकार अपनी चिरपरिचित घृणित हरकतों के साथ सक्रिय है। 26 जनवरी की सजिशपूर्ण हिंसा के बाद सरकारी दमन लगातार तेज हुआ। हर रोज षड्यंत्रा रचने, हिंसा भड़काने, दमन के जरिये इस आंदोलन को कुचलने पर वह आमादा है।

इन सब के बीच संघर्षरत किसान पूरी बहादुरी से इनका डटकर मुक़ाबला कर रहे हैं। सरकार प्रायोजित हिंसा, दमन व मीडिया के दुष्प्रचारों को झेलकर भी वे अपने आंदोलन को मुक़ाम तक पहुंचाने के प्रति संकल्पबद्ध हैं।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: