निजीकरण के खिलाफ बिजली कर्मियों का अनिश्चितकालीन धरना

अजमेर विद्युत वितरण निगम श्रमिक संघ का आंदोलन जारी

निजीकरण के विराेध में अजमेर विद्युत वितरण निगम श्रमिक संघ की ओर से एसई कार्यालय के बाहर अनिश्चितकालीन धरना शुरू किया गया। धरने के पहले दिन झुंझुनूं शहर उपखंड इकाई के अध्यक्ष राजेंद्र योगी की अध्यक्षता में 11 कर्मचारी अनशन पर बैठे। धरने काे संबाेधित करते हुए डिस्कॉम महामंत्री नरेंद्र सिंह राठौड़ ने कहा कि कि निगमों में विद्युत विपत्र छपवाने व रीडिंग, एफआरटी, उपकेंद्राें का संचालन, लोडिंग अनलोडिंग, नई लाइनों का कार्य, ऑडिट कार्य, उपखंडाें का फ्रेंचाइजी व एमबीसी मॉडल पर निजीकरण तथा अन्य स्थाई प्रकृति के कार्य सीएलआरसी पर देने समेत सभी ठेके पर करवाए जा रहे हैं।

ठेका प्रथा बंद नहीं करने तक धरना प्रदर्शन जारी रहेगा। जिलाध्यक्ष देवकरण सैनी ने कहा कि झुंझुनूं में हाल ही बिजली बिल छपवाने व पठन कार्य ठेके पर दिया गया है। भारतीय मजदूर संघ के जिलामंत्री रामगोपाल शर्मा ने बताया कि आंदोलन जन आंदोलन का रूप देना हाेगा। महामंत्री वीरेंद्र सिंह तंवर एवं संगठन मंत्री सुरेश शर्मा ने धरने पर बैठने वाले कर्मचारियों का माल्यार्पण कर स्वागत किया।

ठेका प्रथा के विरोध में प्रदर्शन किया गया। क्रमिक अनशन पर राजेंद्र योगी, उपाध्यक्ष कमलेश मीणा, सचिव सुनील कुमार, विशाल कर्णावत, कृष्ण कुमार, सोमेश स्वामी, विजयपाल, राजवीर सामरिया थे। धरने में श्रम संघ उपाध्यक्ष माया देवी, कोषाध्यक्ष रघुवीर सिंह, परवीन कुमार, नरेश स्वामी, सुनील बुगालिया, नरेश कुमार, प्रताप सिंह, रामअवतार, विकास टंडन मौजूद थे।

दैनिक भास्कर से साभार

%d bloggers like this: