पंतनगर ठेका मज़दूरों को 3 माह से वेतन नहीं, आंदोलन जारी

ठेका मजदूर कल्याण समिति ने श्रम विभाग को दिया ज्ञापन

पंतनगर (उत्तराखंड)। बीते दो माह से वेतन नहीं मिलने से नाराज पंतनगर के ठेका कर्मियों का अनिश्चितकालीन धरना जारी है। ट्रेड यूनियन संयुक्त मोर्चा के बैनर तले स्थाई श्रमिक भी साथ खड़े हैं। 20 फरवरी को ठेका मजदूर कल्याण समिति पंतनगर ने उप श्रम आयुक्त उधम सिंह नगर को पत्र देकर ठेका मज़दूरों को वेतन भुगतान व माह में 26 कार्यदिवसों की माँग की।

ठेका मजदूर कल्याण समिति पंतनगर के कार्यकर्ताओं द्वारा सहायक श्रमायुक्त प्रशांत कुमार को पत्र देकर पिछले दो माह की लम्बित ठेका मज़दूरों को समय से वेतन दिलाने, हर माह 26 कार्यदिवसों का भुगतान कराने आदि की माँग की गई है। पत्र की प्रतियां प्रतियां कुलपति विश्वविद्यालय पंतनगर तथा जिलाधिकारी ऊधम सिंह नगर को भी दी गईं।

पत्र में कहा गया है कि विश्व विद्यालय में पिछले 18–20 सालों से लगातार कार्यरत करीब 2700 ठेका मजदूर श्रम कानूनों द्वारा देय बोनस, बीमा, चिकित्सा, ई.एस.आई. जैसी मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं। इन्हें कभी समय से वेतन भुगतान नहीं किया जा रहा है। जबकि नियमानुसार ठेका मजदूरों को हर महीने की 07 तारीख तक वेतन भुगतान किया जाना चाहिए। विश्वविद्यालय के कुलपति द्वारा भी आदेश जारी कर ठेका मजदूरों को हर माह के प्रथम सप्ताह में वेतन भुगतान किए जाने और हर माह 26 कार्यदिवसों का भुगतान किए जाने का निर्देश दिया गया है। परंतु आज तक इन आदेशों का पालन नहीं किया गया है।

पिछले माह नवम्बर 2020का वेतन 25 जनवरी, फरवरी 21 तक मिल पाया। कई विभागों के ठेका मजदूरों को दिसम्बर 2020 माह का वेतन अभी तक नहीं दिया गया। विश्व विद्यालय प्रशासन द्वारा श्रम कानूनों का उलंघन किया जा रहा है। वहीं ठेका मजदूरों के परिवारों के भरण पोषण, बच्चों की स्कूल फीस, राशन, सब्जियों को लेने में आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है।

शासन प्रशासन की शोषणकारी व अमानवीय रवैया के कारण कई दिनों से ठेका मजदूर विरोध प्रर्दशन करने को बाध्य हुए है।

समिति द्वारा की गईं माँगें-

  1. अतिशीघ्र माह दिसम्बर और जनवरी का लम्बित वेतन भुगतान किया जाए।
  2. कुलपति के आदेश के अनुसार ठेका मजदूरों को माह में 26 कार्यदिवसों का भुगतान किया जाए।
  3. वर्ष 2003 से पूर्व से लगातार कार्यरत ठेका मजदूरों को विश्व विद्यालय कर्मी घोषित किया जाय और शासनादेश के मुताबिक विश्व विद्यालय में लगातार 10 वर्ष की सेवा पूर्ण कर चुके ठेका मजदूरों को नियमित किया जाए।
  4. भारत सरकार के शासनादेश के मुताबिक विश्व विद्यालय में कार्यरत ठेका मजदूरों को 01जून 2016 से ई.एस.आई. की सुविधा दिया जाए।
  5. वर्षों से लगातार कार्यरत ठेका मजदूरों को श्रम नियमानुसार दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की भांति वर्ष में 20 दिनों का सवैतानिक अवकाश दिया जाए।
पंतनगर में ठेका श्रमिकों की सभा को संबोधित करते वक्ता।

ठेका श्रमिकों का धरना जारी, स्थाई श्रमिक भी साथ

तीन महीने से वेतन नहीं मिलने से आक्रोशित ठेका कर्मियों ने ट्रेड यूनियन संयुक्त मोर्चा के नेतृत्व में बीते सोमवार को प्रशासनिक भवन का घेराव किया। करीब तीन घंटे तक चले प्रदर्शन के दौरान कार्यालयों में विभागीय कार्य पूरी तरह ठप रहे।

इसके साथ ही मज़दूरों का धरना लगातार जारी है। उन्होंने कहा वेतन मिलने तक वे आंदोलन जारी रखेंगे। जरूरत पड़ी तो आमरण अनशन भी करेंगे।

घेराव के दौरान हुई सभा में वक्ताओं ने कहा कि तीन माह बीतने के बाद भी श्रमिकों को वेतन नहीं दिया गया है। कुलपति ने प्रतिमाह ठेका कर्मचारियों को 26 कार्यदिवस का वेतन माह के पहले सप्ताह में देने का आदेश जारी किया है लेकिन आज भी अधिकारी ठेका श्रमिकों से 26 दिन काम नहीं करा रहे हैं।

इस बीच ठेका श्रमिकों के समर्थन में विद्युत, सफाई विभाग सहित नियमित कर्मियों के उतरने से विभागीय कार्य पूरी तरह ठप हो गए।

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: