निजीकरण के विरोध में बिजली कर्मियों ने किया कार्यबहिष्कार

विभिन्न माँगों को लेकर आक्रोश, किया धरना-प्रदर्शन

बिजली की निजीकरण सहित अपनी अन्य समस्याओं को लेकर बिजली निगम के कर्मचारियों नेसोमवार को एसई कार्यालय पर जोरदार धरना प्रदर्शन किया। बिजली कर्मतचारियों ने कार्यबहिष्कार कर इसका विरोध किया। बिजली काउंटर बंद रहने से निगम को करोड़ों रुपये का फटका लगा। जबकि अपने काम को लेकर बिजली दफ्तर आए लोगों को भी बिना कार्य पूरा करें, वापस लौटना पड़ा।

धरने को संबोधित करते हुए संघ के जिला सचिव अफरोज खान ने बताया कि सरकार बिजली का नीजिकरण करने पर उतारू है। जो किसी हाल में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। बिजली कर्मियों के हित में इस फैसले को वापस लिया जाए। उन्होंने कहा कि यांत्रिक संवर्ग के टैक्नीशियन को एक अग्रिम वेतन वृद्धि का लाभ एक जनवरी 2006 से 31 दिसंबर 2015 तक नियुक्त कर्मिकों को उसी प्रकार दिया जाए जिस प्रकार अवर अभियंता संवर्ग को दिया जाता है। वहीं, अपनी मांगों को लेकर बिजली कर्मी पूर्णत हड़ताल पर रहे।

दिनभर हड़ताल के दौरान बिल काउंटरों को भी बंद रखा गया। जिसके चलते निगम को लाखों रुपये की चपत लग गई। अपने कामों को बिजली दफ्तर आए, लोगों को भी बिना कार्य पूरा कराए वापस लौटना पड़ा। कर्मियों ने सरकार की नीतियों का भी विराध किया है। साथ ही जल्द निजीकरण समेत उनकी मांगों को नहीं माने जाने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। इस मौके पर मनोज कुमार, कपिल, राहुल, दिनेश कुमार, लोकेंद्र, अमित शर्मा, अरूण कुमार रस्तोगी, अफरोज खान आदि मौजूद रहे।

हिन्दुस्तान से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे

%d bloggers like this: