विरोध : निजीकरण/निगमीकरण स्वीकार्य नहीं

रेलवे निजीकरण के विरोध में प्रदर्शन

प्रयागराज।ऑल इंडिया रेलवे मेन्स फेडरेशन के आह्वान पर नार्थ सेन्ट्रल रेलवे मेन्स यूनियन प्रयागरज की स्थानीय शाखाओं ने शुक्रवार को मण्डल रेल प्रबंधक कार्यालय पर धरना दिया। धरने में भारतीय रेल एवं रेलकर्मियों के अस्तित्व को बरकरार रखने, निजीकण/निगमीकरण को रोकने सहित विभिन्न मांगें शामिल रहीं।

एनसीआरएमयू के महामंत्री आरडी यादव ने कहा कि भारत सरकार रेलवे में निजीकरण/निगमीकरण को थोपने का प्रयास लगातार कर रही है। इससे न सिर्फ रेल कर्मचारियों का नुकसान होगा, बल्कि आम जनता भी त्रस्त होगी। वरिष्ठ नागरिकों को किराए में मिलने वाली छूट को भी खत्म कर दिया गया है। तमाम भत्ते जो कर्मचारियों को दिये जाते थे, उसे बन्द कर दिया गया है। 50 प्रतिशत पदों को समाप्त किया जा रहा है। रेलवे की उत्पादन इकाइयों का निगमीकरण करने का सरकार प्रयासरत हैं।

उन्होंने बताया कि पहले रेलवे में एक्ट अप्रेन्टिसों को प्रशिक्षण के बाद नौकरी में रखने का प्रावधान था लेकिन उसे भी खत्म कर दिया गया। संचालन शाखा अध्यक्ष इलाहाबाद मिनिस्ट्रीयल एसके सिंह एवं अध्यक्षता शाखा अध्यक्ष इलाहाबाद मैकेनिकल वीपी सिंह ने की। धरने में मंडलीय मंत्री मुहिबउल्लाह, रामसिंह, अक्षयवर मिश्र, सईद अहमद, मो. वाहिद, एसपी यादव, विनय कुमार श्रीवास्तव, आरआर सिंह, राजू प्रसाद, मनोज कुमार, नागेन्द्र बहादुर सिंह, यूनियन के पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल रहे।

हिन्दुस्तान से साभार

%d bloggers like this: