निजीकरण के विरोध में रोडवेज कर्मियों का प्रदर्शन

उत्तरप्रदेश में रोडवेजकर्मियों में रोष

हापुड़। रोडवेज के निजीकरण के विरोध में शुक्रवार को कर्मचारियों ने बस अड्डा परिसर के बाहर जोरदार प्रदर्शन कर, सरकार से निजीकरण के प्रक्रिया को वापस लेने की मांग उठाई। राहत नहीं मिलने पर आंदोलन को और बड़ा करने की चेतावनी दी है।

रोडवेज कर्मचारी संयुक्त परिषद के शाखा मंत्री हैदर अली ने कहा कि रोडवेज कर्मचारी कड़ी मेहनत कर बस सेवाओं को संचालन करते हैं। लेकिन सरकार ने कुछ राष्ट्रीय राजमार्गों को प्राइवेट बसों के लिए सौंप दिया है। ऐसे में यहां यात्रियों का शोषण हो रहा है, सरकार को भी राजस्व की क्षति हो रही है। रोडवेज कर्मचारी इन मांगों के निस्तारण को लेकर बीते कई सालों से लड़ाई लड़ रहे हैं। लेकिन सरकार रोडवेज कर्मियों के हित के प्रति सजग नहीं है। संविदा कर्मियों का शोषण चर्म पर है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

रोडवेज कर्मचारियों ने शुक्रवार को बस अड्डा परिसर के बाहर जोरदार प्रदर्शन कर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। साथ ही रोडवेज का निजीकरण न करने की भी मांग उठाई। इस मौके पर केशव सिंह, जितेंद्र कुमार, जितेंद्र, निमेष, रविकांत, मोहम्मद फैज, लाल सिंह, सुरेंद्र सिंह, जगपाल, नरेंद्र सिंह, सुधीर त्यागी, प्रताप सिंह, अमित चौधरी, अमित यादव, मनोज आदि मौजूद रहे।

अमर उजाला से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे