बिजली बिलों में मनमानी लूट के खिलाफ ग्रामीण एकजुट

देशव्यापी किसान आंदोलन का किया समर्थन

भादरा (राजस्थान)। आज (03 फरवरी) नेठराना गाँव में बिजली बिलों में मनमानी लूट के खिलाफ ग्रामीणों ने एक सुर में राजस्थान सरकार की आलोचना की। ग्रामीणों ने दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया व इस आंदोलन के साथ खड़ा होने की सहमति जताई।

ग्रामीणों का कहना है कि राजस्थान सरकार बिजली बिलों के नाम पर स्थाई शुल्क, विद्युत शुल्क व अन्य कर लगा कर लूट रही है। ग्रामीणों ने इस लूट के खिलाफ एकजुट होकर बिजली बिलों का बहिष्कार कर रखा है।

बिजली उपभोक्ता संघर्ष समिति हनुमानगढ़ की ओर से कहा गया है कि इस आंदोलन को प्रदेश के विभिन्न जिलों में बिजली के मुद्दे पर चल रहे संघर्षों को एकजुट करते हुए पूरे प्रदेश में एकजुटता यात्रा निकाली जाएगी व इस मनमानी लूट का विरोध किया जाएगा।

संघर्ष समिति ने मांग की है कि कोरोना महामारी के चलते बकाया बिजली बिलों को माफ किया जाए, स्थायी शुल्क व अन्य रूपों में हो रही है वसूली को तुरंत बंद किया जाए, घटिया व तेज चलने वाले मीटर तुरंत बदले जायें, प्रत्येक परिवार को हर माह 200 यूनिट बिजली मुफ्त दी जाए, बिजली अधिनियम 2020 खारिज किया जाए व बिजली विभाग का निजीकरण बन्द किया जाए।

ग्रामीणों ने दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन किया व आने वाले दिनों में इस आंदोलन के साथ खड़ा होने की सहमति जताई।

%d bloggers like this: