निजीकरण नहीं चलेगा, पुरानी पेंशन बहाल करो!

निजीकरण के ख़िलाफ़ कर्मचारी हुए लामबन्द

बिजनौर। अटेवा की बैठक में पुरानी पेंशन बहाली के लिए और निजीकरण के विरोध में आंदोलन जारी रखने की बात कही। नई पेंशन व्यवस्था को कर्मचारी विरोधी बताया गया।

सिंचाई विभाग के फिल्ड हॉस्टल में हुई बैठक में प्रदेश उपाध्यक्ष चंद्रहास सिंह ने कहा पुरानी पेंशन बहाली के आंदोलन को सभी संगठनों को साथ में लेकर अटेवा ने लंबे समय से एनएमओपीएस के राष्ट्रीय अध्यक्ष विजय कुमार बंधुओं के नेतृत्व में संघर्ष किया है। आज सरकार घाटे के नाम पर सरकारी विभागों को निजी क्षेत्रों में ले जाकर देश के युवाओं के साथ षड्यंत्र रच रही है। नई पेंशन व्यवस्था प्रणाली निजीकरण की नींव है जिसे संगठन किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं करेगा।

उत्तर प्रदेश कर्मचारी महासंघ जिलाध्यक्ष राकेश शर्मा ने कहा पुरानी पेंशन कार्मिकों का संवैधानिक हक है। बेसिक शिक्षक परिवार एसोसिएशन के प्रदेश उपाध्यक्ष रुपेश राजपूत ने कहा नई पेंशन व्यवस्था शेयर बाजार पर आधारित है। बैठक में सतीश वर्मा, गयूर आसिफ, सुधाकर, राजपाल सिंह, कुलवीर चौधरी, अरुण कुमार, रविंद्र कुमार, चंद्रपाल, मनोज कुमार आदि रहे।

अमर उजाला से साभार

%d bloggers like this: