साल के अंतिम दिन भयावह हादसा, 3 बच्चे मरे 9 गंभीर

जेसीबी से खोदा तालाब, जमीन हुई पोपली, खेलते बच्चे मिट्टी में दबे

आगरा में बृहस्पतिवार को थाना सिकंदरा के रुनकता गांव में एक तालाब की खुदाई के दौरान मिट्टी की ढांग (मिट्टी की ढेर) ढहने से उसमें कई बच्चे दब गये। पुलिस-प्रशासन द्वारा चलाये गए बचाव अभियान में 9 बच्चों को निकाला गया है और उन्हें बेहोशी की हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यह जानकारी पुलिस के एक अधिकारी ने दी। इस हादसे में 3 बच्चों के मरने की भी खबर है।

थाना सिकंदरा के निरीक्षक अरविंद कुमार ने बताया कि अन्य बच्चों के दबे होने की आशंका की वजह से बचाव अभियान भी जारी है। उन्होंने बताया कि ढांग से निकाले जा चुके बच्चों का अस्पताल में उपचार चल रहा है। उन्होंने बताया कि थाना सिकंदरा के अंतर्गत रुनकता में चल रहे तालाब की खुदाई के चलते मिट्टी की ढांग ढह गयी जिससे कई बच्चे उसमें दब गये। हादसे की जानकारी होने पर परिजनों ने इसकी सूचना पुलिस को दी।

कुमार ने बताया कि दो घण्टे से जेसीबी मशीन से बचाव कार्य कराया जा रहा है जिसमें आठ बच्चों को निकाल लिया गया है। उन्होंने बताया कि इन बच्चों को बेहोशी की हालत में तत्काल उपचार के लिए भर्ती कराया गया। उन्होंने बताया कि इनमें से कई बच्चों की हालत चिंताजनक है।मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक नगरा बस्ती में निवर्तमान प्रधान द्वारा तीन दिन से पुराने तालाब की खोदाई का काम कराया जा रहा है।

जेसीबी से खोदाई होने के चलते तालाब में 12 फीट गहरा गड्ढा हो गया है। गुरुवार को काम बंद था। जेसीबी से खोदाई के चलते तालाब में गड्ढे के आसपास की मिट्टी पोली हो गई है। गुरुवार तीसरे पहर करीब चार बजे तालाब में नगरा बस्ती के 10-12 बच्चे खेल रहे थे। इस दौरान यह बच्चे खेलते हुए गड्ढे के पास चले गए। अचानक मिट्टी भरभराकर गिर गई।

बड़ी संख्या में ग्रामीण मौके पर आ गए। राहत कार्य में जुट गए। हादसे के चलते मौके पर कई थानों की पुलिस पहुंच गई। ग्रामीणों और पुलिस ने एक घंटे चले रेस्क्यू के बाद बच्चों को बाहर निकाला। उन्हें एसएन इमरजेंसी और सिकंदरा हाईवे स्थित अस्पताल में भर्ती कराया। इमरजेंसी में डॉक्टरों द्वारा तीन बच्चों को म़ृत घोषित कर दिया गया।

जनसत्ता से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे