एअरपोर्ट निजीकरण के विरोध में उतरेंगे कर्मचारी

सरकार के एयरपोर्ट बेचने के विरुद्ध कर्मचारी लामबंद

बाबतपुर एयरपोर्ट के निजीकरण की कवायद शुरू किए जाने के बाद कर्मचारियों में इसे लेकर रोष है। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया वाराणसी के यूनियन के लोग इसे लेकर नाखुश दिख रहे हैं। निजीकरण के विरोध में पूर्व में भी वाराणसी एयरपोर्ट पर जॉइंट फोरम की ओर से यूनियन लीडर की अध्यक्षता में धरना प्रदर्शन व भूख हड़ताल करते रहे हैं।

पहले भी देश के छह एयरपोर्ट को निजी हाथों में टेंडर के माध्यम से दिया जा चुका है। फिर 2021 के पहले तिमाही में एयरपोर्ट के अगले दौर के निजीकरण की योजना बन रही है। इसको लेकर भारतीय विमानपत्तनन प्राधिकरण के चेयरमैन की ओर से एयरपोर्टों के निजीकरण की अगले दौर की प्रक्रिया 2021 के पहले तिमाही में होने की जानकारी के बाद वाराणसी को लेकर सुगबुगाहट शुरू हो गई है। प्राधिकरण ने सितम्बर में केंद्र के जिन एयरपोर्टों की सिफारिश की थी, उसके तहत अब वाराणसी, अमृतसर, इंदौर, भुवनेश्वर, त्रिची और रायपुर के एयरपोर्ट का निजीकरण किया जाना है। एयरपोर्ट निदेशक आकाशदीप माथुर के अनुसार एयरपोर्ट के निजीकरण का फैसला सरकार का होगा। मार्च में टेंडर होने की उम्मीद है। हालांकि अभी तक कोई लिखित सूचना नहीं मिली है।

भूली-बिसरी ख़बरे