किसान आंदोलन : महाराष्ट्र से भी किसानों का दिल्ली कूच

AIKS

दिल्ली बार्डर पर बढ़ता जा रहा है आंदोलनकारियों का कारवां

महाराष्ट्र में अखिल भारतीय किसान सभा के बैनर तले हजारो किसानों ने दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों का समर्थन करने के लिए दिल्ली की ओर कूच किया है। ये किसान भी पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान, मध्य प्रदेश आदि की तरह नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली प्रदर्शन करने आ रहे हैं।

महाराष्ट्र से सोमवार को 1,270 किलोमीटर लंबा ‘वाहन जत्था’ चल दिया है। किसान नेताओं ने दिल्ली रवाना होने से पहले शिवाजी महाराज, महात्मा फुले और डॉ. अम्बेडकर की मूर्तियों को नमन कर मोदी सरकार और किसान विरोधी कानून के खिलाफ लड़ने की शपथ ली।

इसके अलावा बड़ी संख्या में किसानों ने मंगलवार दोपहर को मुंबई में कुछ कॉर्पोरेट घरानों के कार्यालयों के बाहर विरोध प्रदर्शन किया।

AIKS के प्रवक्ता पी.एस. प्रसाद ने कहा कि 2,000 से अधिक किसानों का जत्था वाहनों से सोमवार शाम नासिक से निकला था। अभी जब दिन में वे धुले से राज्य की सीमाओं की ओर बढ़ रहे थे, तब 1,000 से अधिक लोग मालेगांव में शामिल हुए हैं।

image

जगह जगह पर किसान और आम जनता इन जत्थों को रोककर उनका स्वागत कर रहे हैं। हजारों स्थानीय, गैर-किसान और विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने किसानों की सुरक्षित यात्रा और उनके सफल होने की कामना भी की।

किसान पिछले कई दिनों से दिल्ली में राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को किसान सभा के नेतृत्व में महाराष्ट्र से हजारों किसान और मज़दूर, दिल्ली में किसान आंदोलन में भाग लेने के लिए रवाना हुए।

image

महाराष्ट्र के किसानों में भी उत्साह और जोश भरपूर है। दिल्ली रवाना हो रहे महाराष्ट्र के सतारा के किसान मानिक अघड़े ने कहा “हम दिल्ली में ठंड से डरते नहीं हैं। मोदी सरकार द्वारा शुरू किए गए कानून अधिक खतरनाक हैं (सर्दियों की तुलना में)। हम सड़क पर बैठेंगे और सड़क पर भोजन करेंगे लेकिन, हम इन कानूनों के वापस लिए जाने तक वापस नहीं आएंगे।”

उन्होंने बताया “यह केवल पंजाब और हरियाणा के किसानों का संघर्ष नहीं है। यह सभी भारत के किसानों के लिए है। सोमवार को हम यहां से अपना मार्च शुरू कर रहे हैं। इसके बाद में, देशभर के हजारों अन्य किसान दिल्ली के द्वार पर पहुंचेंगे।”

image

महाराष्ट्र के 21 जिलों के हजारों किसान सोमवार सुबह नासिक में अपने वाहन, और राशन के साथ गोल्फ क्लब मैदान एकत्र हुए थे। वहां अडानी, अंबानी, कॉर्पोरेट कंपनियों और मोदी के खिलाफ नारेबाजी की गई। इसके बाद किसान आंदोलन में शहीद किसानों को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई और किसान सभा के नेतृत्व में जनसभा हुई।

इस जनसभा में अखिल भारतीय किसान सभा के नेता डॉ. अशोक धवले, जेपी गावित, किशन गुज्जर, डॉ. अजीत नवले, सुनील मालुसारे, केरल के सांसद व अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय उप सचिव के. के. रागेश व अन्य ने भाषण दिए। जबकि अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की राष्ट्रीय महासचिव मरियम धवले, सीटू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. डी एल कराड, सीटू विधायक विनोद सहित कई सम्मानित किसान नेताओ ने हार्दिक शुभकामनाएं दी।

भूली-बिसरी ख़बरे