राजमार्ग जाम, मुख्यालयों पर होगा प्रदर्शन व अनशन

समर्थन : दिल्ली कोर्ट में वकील बनाएँगे मानव श्रृंखला

13 दिसंबर : किसानों ने दिल्ली-जयपुर राजमार्ग, दिल्ली-नोएडा सीमा आदि भी अवरुद्ध कर दिया। हरियाणा के 16 जिलों में किसानों ने हाईवे-नेशनल हाईवे पर जाम लगाया। किसान संगठनों द्वारा सोमवार को मुख्यालयों पर राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन व भूख हड़ताल होगा। दिल्ली में वकील तीस हजारी कोर्ट पर मानव श्रृंखला बनाएँगे।

इस बीच किसान विरोधी कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर विरोध-प्रदर्शन लगातार 18वें दिन भी जारी रहा।

राष्ट्रिय राज मार्ग पर लगाया जाम

पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत राजस्थान-हरियाणा सीमा पर शाहजहांपुर से किसानों द्वारा ट्रैक्टर मार्च शुरू करने के बाद आंशिक रूप से तीन घंटे तक बंद किए गए दिल्ली-जयपुर राजमार्ग को खोल दिया गया। दिल्ली चिल्ला में दिल्ली-नोएडा सीमा से किसानों के नाकाबंदी हटाने के बाद राजमार्ग को खोला गया।

हरियाणा के 16 जिलों में किसानों ने हाईवे-नेशनल हाईवे समेत 65 सड़कों को 3 घंटे तक जाम लगाया। इस बीच, दिल्ली जाने वाले हजारों किसान, हरियाणा की रेवाड़ी सीमा पर पहुंच गए, जहां पुलिस ने उन्हें राज्य में प्रवेश करने से रोकने के लिए दिल्ली-जयपुर राजमार्ग के दोनों किनारों पर रोक दिया। कहीं भी एंबुलेंस और जरूरी सेवाएं वाले वाहनों को भी नहीं रोका गया

सोमवार को राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन व भूख हड़ताल

किसान संगठनों ने सोमवार के लिए एक राष्ट्रव्यापी विरोध की योजना घोषित की है। दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर किसान नेताओं ने आंदोलन की आगे की रूपरेखा को लेकर रविवार शाम को प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा कि सभी किसान यूनियनों के प्रमुख सोमवार को सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक भूख हड़ताल करेंगे। चढूनी ने कहा कि सरकार तीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन को पटरी से उतारने के लिए साजिश रच रही है। वहीं, किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम लोगों का आंदोलन सही दिशा में जा रहा है।

किसान नेता शिवकुमार कक्का ने कहा कि हमारा रुख स्पष्ट है, हम तीनों कृषि कानूनों का निरस्तीकरण चाहते हैं। जबकि किसान नेता संदीप गिद्दू ने कहा कि 19 दिसंबर से प्रस्तावित अनिश्चितकालीन भूख हडताल रद्द की गई, इसके बजाय सोमवार को यह एक दिवसीय भूख हड़ताल रहेगी।

अधिवक्ता दिल्ली में बनाएँगे मानव श्रृंखला

वकीलों कि संस्था ‘लायियर्स फॉर डेमोक्रेसी’ ने किसान आन्दोलन से एकजुटता प्रदर्शित की है। वे किसानों के समर्थन में 14 दिसंबर को दिन में 12 बजे दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट के गेट नंबर-1 से गेट नंबर-2 तक मानव श्रृंखला बनकर की माँगों को अपनी आवाज़ देंगे।

अब प्रज्ञा ठाकुर ने बोला देशद्रोही

इस बीच सत्ताधारी भाजपा द्वारा आन्दोलन को बदनाम करने के लिए सारे हथकंडे इस्तेमाल किए जा रहे हैं। इस बीच भोपाल से बीजेपी सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने किसान आंदोलन को लेकर जहर उगला है। आतंकबाद की खुद आरोपी प्रज्ञासिंह ठाकुर ने किसानों को देशद्रोही करार दिया।

इन सब के बीच आंदोलनरत किसान पूरे जज्बे और योजनाबद्ध तरीके से आन्दोलन को गति दे रहे हैं।

भूली-बिसरी ख़बरे