निजीकरण व श्रम विरोधी कानूनों के ख़िलाफ़ प्रतिरोध

राजस्थान विद्युत श्रमिक महासंघ के नेतृत्व में पूरे राजस्थान में प्रदर्शन

सहायक अभियंता कार्यालय के बाहर निजीकरण व श्रम विरोधी कानून के विरोध में कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया। केंद्र सरकार द्वारा श्रम कानून में किए जा रहे श्रमिक विरोधी बदलाव एवं निजीकरण के खिलाफ यह प्रदर्शन विद्युत वितरण श्रमिक संघ के प्रदेश महामंत्री लखन सिंह गुर्जर के नेतृत्व में किया गया। राजस्थान विद्युत श्रमिक महासंघ के नेतृत्व में मंगलवार को पूरे राजस्थान में विद्युत कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर विरोध जताया है। साथ ही प्रदेश स्तर के संगठनों ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर निजीकरण का विरोध प्रकट किया है। प्रदेश महामंत्री ने बताया कि निजीकरण पर रोक नहीं लगाई गई तो पूरे राजस्थान में आंदोलन आत्मक कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। इस दौरान महेंद्र प्रताप सिंह, नगेंद्र कौशल, लोकेंद्र शर्मा, जयप्रकाश जाट, सीताराम शर्मा सहित अनेक कर्मचारी गण मौजूद रहे।

कर्मचारियों ने नारेबाजी कर जताया विरोध बांदीकुई| निजीकरण के विरोध में जयपुर विद्युत वितरण श्रमिक संघ के बैनर तले मंगलवार को बिजली कर्मचारियों ने नारेबाजी कर विरोध प्रदर्शन किया। संघ के प्रदेश मंत्री कैलाश सिंह चौधरी जिला अध्यक्ष ओम प्रकाश गुर्जर के नेतृत्व में संगठन मंत्री कालूराम बैरवा, बांदीकुई अध्यक्ष महेन्द्र सिंह पोसवाल यूनिटी संयुक्त महामंत्री हेमंत जोशी एवं शीला गुर्जर यूनिट कार्यकारिणी अध्यक्ष हीरालाल बैरवा, मनीष चौधरी, विवेक सैनी, पी डी देवतवाल, महेश गुर्जर, पुष्पेंद्र गुर्जर, ललित सिंह गुर्जर, श्रवण कुमार , विष्णु सैनी , विमल कुमार , खेम सिंह,मुकेश जांगिड़, विक्रम चेची, सविता सहित अन्य ने नारेबाजी कर विरोध जताया।

दैनिक भास्कर से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे