90km ट्राली से खींचकर पत्नी को अस्पताल पहुँचाया

ग़रीबी की मज़बूरी, स्वास्थ्य सेवा का हाल

ओडिशा में एक ऐसा मामला सामने आया है, जहां एक व्यक्ति के पास एंबुलेंस का खर्च वहन करने के लिए पैसे नहीं थे तो उसने साइकिल की ट्रॉली पर ही अपनी पत्नी को बैठाकर 90 किलोमीटर की दूरी तय कर डाली। मामला ओडिशा के पुरी जिले का है। जहां के रहने वाले कबीर भुयिन अपनी पत्नी को साईकिल की टॉली पर बैठाकर पुरी से कटक तक पहुंच गए।

खबर के अनुसार, कबीर अपनी पत्नी के साथ पुरी जिले के सखीगोपाल इलाके में रहते हैं। उनकी पत्नी बीते काफी दिनों से बीमार थी और पुरी के जिला अस्पताल में भर्ती थी। लेकिन वहां उनकी तबीयत में कोई सुधार नहीं आ रहा था। इसके बाद डॉक्टरों ने कबीर से उनकी पत्नी को बेहतर इलाज के लिए कटक के एससीबी अस्पताल ले जाने को कहा।

कबीर भुयिन के पास एंबुलेंस वाले को देने के लिए पैसे नहीं थे। वहीं प्राइवेट वाहनों वाले लोग भी जो पैसे मांग रहे थे, कबीर उन्हें भी देने में सक्षम नहीं थे। कोई और रास्ता ना मिलता देख कबीर ने 50 रुपए रोज के खर्च पर एक साईकिल ट्रॉली ली, जिसमें पीछे अपनी पत्नी को बैठाया और फिर पैडल मारते हुए 90 किलोमीटर का सफर तय कर कटक के एससीबी अस्पताल पहुंचे।

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के अनुसार, कबीर की पत्नी को अस्पताल में भर्ती कर लिया गया है। वहीं कबीर का कहना है कि सफर काफी दर्दभरा और थकाऊ रहा।

बीते साल भी ऐसा ही एक मामला सामने आया था। हालांकि इसमें एक डॉक्टर ने सेवा भाव की मिसाल पेश करते हुए एक मरीज को कंधे पर लादकर 5 किलोमीटर का चढ़ाई वाला रास्ता पैदल पारकर अस्पताल पहुंचाया था। वहीं यूपी के पीलीभीत में भी ऐसी ही एक घटना सामने आयी थी। जिसमें एक बुजुर्ग मरीज को लेने के लिए कोई एंबुलेंस नहीं आयी। जिसके बाद बुजुर्ग के परिजन उसे ठेले पर लादकर अस्पताल पहुंचे थे।

जनसत्ता से साभार

भूली-बिसरी ख़बरे