निजीकरण के विरोध में रेलवे कर्मचारियों ने दिया धरना

आठ सूत्रीय माँगों को लेकर डीआरएम कार्यालय पर प्रदर्शन

रायपुर। रेलवे के निजीकरण के विरोध और अपनी आठ सूत्रीय माँगों को लेकर शुक्रवार को स्वतंत्र रेलवे बहुजन कर्मचारी यूनियन ने धरना प्रदर्शन किया। रायपुर रेल मंडल कार्यालय (डीआरएम) के सामने सुबह 11 बजे से शाम तक चले इस एक दिवसीय धरना प्रदर्शन में रेल कर्मियों के साथ विभिन्न संगठन भी समर्थन में शामिल रहे।

यूनियन के सचिव भोला चौधरी, उपाध्यक्ष राजेंद्र कुमार विमल सहित अन्य पदाधिकारियों ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि रेलवे के निजीकरण और एनपीसी के विरोध में ‘रेल बचाओ-देश बचाओ’ को लेकर धरना प्रदर्शन किया गया है। इसके जरिए यूनियन ने एकता दिखाई है।

भारतीय रेलवे के सभी कार्यरत, सेवानिवृत्त कर्मचारी, रेलवे के विभिन्न सामाजिक संगठनों के साथ-साथ अन्य सभी सामाजिक संगठनों के सदस्यों का सहयोग और समर्थन मिला है। सभी संगठन रेलवे के निजीकरण का विरोध कर रहे हैं। किसी भी हालात में निजीकरण नहीं होने देंगे।

धरना प्रदर्शन में स्वतंत्र रेलवे बहुजन कर्मचारी यूनियन के कोषाध्यक्ष मोहम्मद सलीम, सहायक सचिव चेतनलाल साहू, दिलीप कुमार सहित रेलवे के कई पदाधिकारी शामिल हुए।

राजेंद्र विमल ने बताया कि रेल मंत्री, चेयरमैन रेलवे बोर्ड और सभी महाप्रबंधक का ध्यान प्रमुख माँगों के साथ ही औद्योगिक विवाद अधिनियम की तरफ दिलाया गया था। मगर, कोई कार्रवाई नहीं होने पर भारतीय रेलवे के प्रत्येक जोन, मंडल में कर्मचारी धरना और विरोध प्रदर्शन करने को मजबूर हो गए हैं।

विभिन्न संगठनों ने दिया समर्थन

धरना प्रदर्शन को समर्थन देने के लिए सामाजिक न्याय मंच के नंद कुमार बघेल, संयुक्त मोर्चा छत्तीसगढ़ के संयोजक रामकृष्ण जांगड़े, रघुनंदन साहू, बामसेफ से केडीएल चौरे भी शामिल हुए। धरने के बाद यूनियन के पदाधिकारियों ने मंडल रेल प्रबंधक को आठ सूत्रीय माँग पत्र सौंपा।

रेल कर्मियों ने उठाई माँग

स्वतंत्र रेलवे बहुजन कर्मचारी यूनियन की आठ सूत्रीय मांगों में रेलवे का निजीकरण बंद करें, पुरानी पेंशन योजना लागू करें, रोका हुआ महंगाई भत्ता दिया जाए, डिक्लेयर एलडीसीई ओपन टू ऑल, सरेंडर आफ 50 फीसद वेकेंसी नॉन सेफ्टी केटेगरी बंद करे, रेलवे में 2010 के बाद में अप्रेंटिस कोर्स पूर्ण कर चुके उम्मीदवारों को रेलवे में शामिल करें, सीईएन 2018 नंबर परीक्षा में पास अभ्यर्थियों को रेलवे तुरंत नियुक्ति दें, आरआरबी-एनटीपीसी-सीईएन 2019 और आरआरसी 2018 नंबर की रुकी हुई परीक्षा की तारीख घोषित की जाए।

भूली-बिसरी ख़बरे