यूपी : बिजली कर्मियों का 3 घंटे का कार्यबहिष्कार जारी

निजीकरण के विरोध में पॉवर आफिसर्स एसोसिएशन भी कूदा

सिद्धार्थनगर: निजीकरण के विरोध में बिजली विभाग के कर्मचारियों ने एक माह के धरना प्रदर्शन के बाद गुरुवार से तीन घंटे का कार्य बहिष्कार शुरू कर दिया है। जिला मुख्यालय से लेकर विद्युत उपकेंद्रों तक तैनात कर्मचारियों ने तीन घंटे तक कार्य बहिष्कार करते हुए आंदोलन को तेज करने को कहा। कर्मचारियों ने कहा कि विभाग का निजीकरण किसी भी दशा में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। इस दौरान विरोध सभा का आयोजन कर सरकार के फैसले के खिलाफ रोष जताते हुए इसे वापस लेने की मांग की।

जिला मुख्यालय पर संघर्ष समिति के संयोजक दीपक कुमार की अगुवाई में कर्मचारियों ने आंदोलन के बीच तीन घंटे का कार्य बहिष्कार किया। डुमरियागंज में पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम लिमिटेड निजीकरण के खिलाफ संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले गुरुवार दो बजे से शाम पांच बजे तक कार्य बहिष्कार करते हुए कर्मचारियों ने विद्युत वितरण खण्ड डुमरियागंज में धरना प्रदर्शन किया। अधिशाषी अभियंता राम मूरत के नेतृत्व में विरोध सभा के दौरान सुमन कुमार सहित अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों ने एक स्वर में कहा कि सरकार राष्ट्र हित मे राष्ट्रीय संपति को बेचना बंद करे। यह देश के युवाओं के भविष्य को पूंजीपतियों के गुलामी की तरफ ले जाएगी। इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अगर सरकार पांच अक्टूबर तक अपना फैसला वापस नहीं लेती है तो कर्मचारी पूरी तरह से कार्य बहिष्कार कर देंगे। रितेश कौशल, कौशल किशोर, सुनील यादव, बीपी सिन्हा, कैलाश, मुलायम, सुदेश, विनीत कुशवाहा, अजित सिंह, प्रशांत, राहुल,नितिन, अमरजीत आदि मौजूद रहे।

भूली-बिसरी ख़बरे