डाइकिन यूनियन के अध्यक्ष को श्रम न्यायालय से मिली जीत

डाइकिन प्रबंधन को अवैध सेवा मुक्ति के खिलाफ नहीं मिला अनुमोदन

अलवर (राजस्थान)। डाइकिन यूनियन के अध्यक्ष कॉमरेड रूकमुद्दीन की अवैध सेवा समाप्ति पर 11 सितंबर को श्रम न्यायालय अलवर ने श्रमिक के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कंपनी द्वारा दायर अनुमोदन अपील आवेदन खारिज कर दी। इसी के साथ कॉमरेड रुकुमुद्दीन की सेवा समाप्ति अवैध घोषित हो गई।

यूनियन बनाने के साथ दमन बढ़ा

ज्ञात हो कि नीमराना जापानी जोन स्थित डाइकिन एयर कंडीशनिंग इंडिया प्रा लि में जब भी यूनियन बनाने का प्रयास हुआ, प्रबंधन ने भारी दमन का सहारा लिया और हर बार यूनियन पदाधिकारियों की गैरकानूनी निलंबन/बर्खास्तगी की। लेकिन मज़दूरों का संघर्ष जारी रहा और अंततः 29 अगस्त 2018 को “डाईकिन एयर कंडीशनिंग मज़दूर यूनियन” पंजीकृत हुई, जिससे प्रबंधन में बौखलाहट और बढ़ गई।

डाइकिन यूनियन के अध्यक्ष कॉम. रूकमुद्दीन की यूनियन बनाने के कारण वर्ष 2016 में डाइकिन प्रबंधन ने अवैध रूप से सेवा सेवा समाप्त कर थी। जिसके अनुमोदन हेतु प्रबंधन ने श्रम न्यायलय में औद्योगिक विवाद अधिनियम, 1947 की धारा 33(2)(b) के तहत आवेदन किया था, जिसे न्यायालय ने ख़ारिज कर दिया। न्यायालय में 4 साल तक सुनवाई के बाद यह फैसला आया है।

संघर्षगाथा जानने के लिए इसे पढ़ें

पूर्व पदाधिकारियों को भी मिली है जीत

यूनियन ने बताया कि इससे पूर्व पहली यूनियन बनाने पर तत्कालीन अध्यक्ष साथी मनमोहन, वर्तमान महामंत्री दौलतराम के बाद साथी रुकमुद्दीन को भी अन्याय के खिलाफ जीत मिली है। पूँजीपतियों को मुंह की खानी पड़ी है।

यह संघर्ष की जीत है

यूनियन ने कहा कि सभी साथीयों को हौसला बना कर रखना है। हमारे सभी साथियों को धीरे धीरे करके जीत मिलती रहेगी क्योंकि जीत हमेशा सच्चाई की होती है। पूँजीवाद पर मजदूरों की यह बहुत बड़ी जीत है। सभी स्थाई व ठेका श्रमिक हौसला बना कर रखे बड़े संघर्ष में समय लगता है।

यह मामला 2016 से विचाराधीन था अब 2020 में न्याय मिला है।

सम्बंधित ख़बर

कॉमरेड रुकुमुद्दीन ने कहा कि यह जीत सभी साथियों के सहयोग व सब लोगों की दुवाओं का नतीजा है। सभी साथियों से यूनियन यह उम्मीद करती है कि आप लोगो का अच्छा सहयोग मिला ओर आगे भी आप सभी की एकजुटता का सहयोग मिलता रहेगा तो हमे ऐसे ही जीत दर्ज करते रहेंगे।

उन्होंने सभी साथियों की एक जुटता व सहयोग के लिए तहे दिल से धन्यवाद व सभी को बहुत-बहुत बधाई।

यूनियन ने कहा कि राजस्थान हाई कोर्ट के एडवोकेट आमीन अली द्वारा दिलाई जीत का यूनियन तहे दिल से इस्तकबाल करती है।

लड़ेंगे  जीतेंगे!

इस जीत पर मज़दूर सहयोग केंद्र ने यूनियन व सभी मज़दूर साथियों को बधाई दी है!

भूली-बिसरी ख़बरे